Astro Gyan: इस रत्न को धारण करने से ही होगा चमत्कार, नौकरी हो या व्यवसाय, हर तरफ से होगी धन की वर्षा

Samachar Jagat | Monday, 28 Mar 2022 07:01:01 PM
Material / Miracles will happen just by wearing this gem, whether it is a job or a business, money will rain from all sides

यदि आप नौकरी व्यवसाय में सफल होना चाहते हैं तो पन्ना रत्न धारण करने से अत्यंत शुभ फल प्राप्त होंगे।

  • यह रत्न अत्यंत प्रभावशाली है
  • बुध ग्रह के साथ संबंध
  • नौकरी-व्यापार में सफलता देता है
  • यह रत्न अत्यंत प्रभावशाली है

आभूषण को ज्योतिष की सबसे महत्वपूर्ण शाखा माना जाता है। रत्नों की सहायता से कुंडली के कमजोर ग्रहों को मजबूत करने से शुभ फल प्राप्त होते हैं। वहीं शुभ ग्रहों को बलवान बनाकर उनसे प्राप्त होने वाले फलों का भी अधिक से अधिक लाभ उठाया जा सकता है। रत्न शास्त्र में 9 रत्नों और 84 रत्नों का उल्लेख है। इन सभी 9 रत्नों का संबंध किसी न किसी ग्रह से है। आज हम एक ऐसे रत्न के बारे में बात करने जा रहे हैं जो नौकरी-व्यापार में सफलता के लिए जाना जाता है। इस रत्न को धारण करते ही भाग्य साथ देने लगता है।

नौकरी - व्यापार में सफलता
बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करने वाले पन्ना रत्न बहुत प्रभावशाली रत्न होते हैं। इस रत्न को धारण करने से जातक की बुद्धि, सरलता, वाणी में निपुणता बढ़ती है। वहीं नौकरी-व्यापार में सफलता शीघ्र प्राप्त होती है। ज्योतिष में बुध को व्यापार का दाता कहा गया है। यह रत्न स्मरण शक्ति को भी बढ़ाता है।

ये लोग पन्ना धारण कर सकते हैं
मिथुन, कन्या और विवाह के जातकों के लिए इस रत्न को पहनना अत्यंत शुभ माना जाता है। इसके अलावा वृष, तुला, मकर और कुंभ राशि के लोग भी पन्ना धारण कर सकते हैं। लेकिन मेष, कर्क और वृश्चिक राशि के लोगों को पन्ना नहीं पहनना चाहिए। इसलिए किसी भी रत्न को सबसे पहले किसी विशेषज्ञ की सलाह से ही धारण करना चाहिए। व्यवसायियों, छात्रों, मीडिया, फिल्म जगत से जुड़े लोगों के लिए पन्ना रत्न बहुत फायदेमंद हो सकता है।

ऐसे करें पन्ना रत्न की कल्पना
बुधवार के दिन हाथ की सबसे छोटी अंगुली में चांदी या सोने की अंगूठी में पन्ना धारण करना शुभ माना जाता है। इस रत्न को सूर्योदय से सुबह 10 बजे तक धारण करना चाहिए। पन्ना कम से कम 7 कैरेट का होना चाहिए।हालांकि, विशेषज्ञ इस रत्न को शरीर के वजन के अनुसार पहनने की सलाह देते हैं। पन्ना धारण करने से कुछ दिन पहले इसे गंगाजल, शहद और दूध में डुबोकर रखें। फिर इसे गंगाजल से धोकर अगरबत्ती के सामने रख दें, दीपक लगाएं और ओ बू बुढाय नमः मंत्र का 108 बार जाप करें। इस दिन बुध से संबंधित वस्तुओं का दान करें। इस दिन गाय की सेवा करनी चाहिए।



 
loading...

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.