हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज करने वाले तीन वैज्ञानिकों को Nobel Prize

Samachar Jagat | Tuesday, 06 Oct 2020 11:46:01 AM
Nobel Prize for three scientists who discovered Hepatitis C virus

स्टॉकहोम। जानलेवा बीमारी हेपेटाइटिस'सी’के उपचार में बड़ी खोज करने वाले तीन वैज्ञानिकों को वर्ष 2०2० का नोबेल पुरस्कार दिया गया। यह पुरस्कार मेडिसिन के क्षेत्र में बड़ा योगदान देने के लिए दिया गया है।

नोबेल पुरस्कार देने वाली समिति ने सोमवार को बयान जारी कर कहा कि इस वर्ष का नोबेल पुरस्कार उन तीन वैज्ञानिकों को प्रदान किया जाएगा जिन्होंने रक्त-जनित हेपेटाइटिस सी के खिलाफ लड़ाई में निर्णायक योगदान दिया है। यह एक प्रमुख वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है जो दुनिया भर के लोगों में सिरोसिस और यकृत कैंसर का कारण बनती है।

समिति ने बताया कि अमेरिकी वैज्ञानिक हार्वे जे आल्टर और चाल्र्स एम राइस तथा ब्रिटिश विज्ञानी माइकल हफटन ने उन कणों की खोज की है जिससे हेपेटाइटिस सी वायरस की पहचान हो सकती है। इस खोज से पहले अन्य वैज्ञानिकों ने हेपेटाइटिस ए और बी वायरस होने की खोज में काफी प्रगति की थी लेकिन रक्त-जनित हेपेटाइटिस के मामलों में अभी भी कई असुलझे प्रश्न हैं।
हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज ने क्रोनिक हेपेटाइटिस के शेष मामलों के कारण का पता लगाया और रक्त परीक्षण और नयी दवाओं को संभव बनाया जा सकेगा जिसने लाखों लोगों की जान अब बच सकती है।

हेपेटाइटिस सी दरअसल लिवर कैंसर होता है और यह एक बहुत बड़ा कारण है कि लोगों को लिवर ट्रांसप्लांट करवाना पड़ता है। यह बीमारी वायरल संक्रमण के कारण होती है और शराब, पर्यावरण विषाक्त पदार्थों और ऑटोइम्यून रोग भी इस बीमारी से ग्रस्त होने के कई महत्वपूर्ण कारण हैं।

समिति ने इस खोज को लेकर कहा, '' वायरल बीमारियों के खिलाफ जारी लड़ाइयों में हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। खोज के लिए तीनों वैज्ञानिकों का धन्यवाद। वायरस के लिए अत्यधिक संवेदनशील रक्त परीक्षण अब उपलब्ध हैं। उनकी खोज के आधार पर हेपेटाइटिस सी पर निर्देशित एंटीवायरल दवाओं का तेजी से विकास किया जाएगा जिससे विश्व से हेपेटाइटिस सी वायरस .खत्म करने की उम्मीद बढè गई है।’’

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आकलन के अनुसार दुनियाभर में हेपेटाइटिस के सात करोड़ से अधिक मामले हैं और हर साल इससे चार लाख से अधिक लोगों की मृत्यु हो जाती है। यह बीमारी गंभीर है और इससे यकृत संबंधी समस्या और कैंसर तक होने की आशंका होती है। इस खोज से अब लाखों लोगों का जीवन बचाया जा सकेगा। (एजेंसी) 



 
loading...


Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.