अपने ही नाम से बहुत चिढ़ गए थे सुमित्रानंदन पंत, जानिए क्या थी वजह

Samachar Jagat | Friday, 20 May 2022 11:01:01 AM
Sumitranandan Pant was very irritated by his own name, know what was the reason

'छायादार युग' के चार प्रमुख स्तंभों में से एक सुमित्रानंदन पंत को हिंदी कविता की नई धारा के प्रवर्तक भी कहा जाता है। इस युग को जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला', पंत और राम कुमार वर्मा जैसे कवियों का युग कहा जा रहा है। सुमित्रानंदन पंत परंपरावादी आलोचकों के सामने कभी नहीं झुके। उनकी गिनती उन साहित्यकारों में भी होती है जिनका काव्य में प्रकृति का चित्रण समकालीन कवियों में सर्वश्रेष्ठ था। पंत महात्मा गांधी से भी प्रभावित थे और उन्होंने कई काम किए थे। सुकोमल कविताओं के रचयिता सुमित्रानंदन पंत ने 27 दिसंबर 1977 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

पंत का बचपन: सुमित्रानंदन पंत का जन्म 20 मई 1900 को उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के कौसानी गांव में हुआ था। उनके जन्म के छह घंटे बाद उनकी मां की मृत्यु हो गई। एक बच्चे के रूप में, वह सभी 'गुसैन दत्त' के नाम से जाने जाते थे। अपनी माँ की मृत्यु के बाद, वह अपनी दादी के साथ रहता था। 7 साल की उम्र में जब वे चौथी कक्षा में पढ़ रहे थे, तब उन्होंने कविता लिखना शुरू कर दिया था। 1917 में पंत अपने मंझले भाई के साथ काशी चले गए और क्वीन्स कॉलेज में पढ़ने लगे। यहीं से उन्होंने माध्यमिक शिक्षा भी प्राप्त की।


 
सुमित्रानंदन पंत कैसे बने गुसाई: उन्हें अपना नाम गुसाईं दत्त पसंद नहीं था, इसलिए उन्होंने अपना नाम बदलकर सुमित्रानंदन पंत कर लिया। काशी के क्वींस कॉलेज में कुछ दिन पढ़ने के बाद वे इलाहाबाद चले गए और वहां के मयूर कॉलेज में पढ़ने लगे। वह इलाहाबाद में दरबार के पास एक सरकारी बंगले में अपना जीवन यापन करता था। उन्होंने इलाहाबाद ऑल इंडिया रेडियो के शुरुआती दिनों में एक सलाहकार के रूप में भी काम किया।



 
loading...

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.