Health Tips: सूर्य नमस्कार रोग का समय है आइए जानते हैं इसके फायदे

Samachar Jagat | Monday, 18 Apr 2022 05:27:01 PM
Surya Namaskar is the time of illness. Let us know its benefits

जो लोग सुबह की शुरुआत सूर्य नमस्कार से करते हैं उनका तन और मन स्वस्थ रहता है।
सूर्य नमस्कार, जो प्राचीन काल से आसपास रहा है, का अर्थ है सूर्य को नमस्कार। इस आसन को करते समय सूर्य की किरणें सीधे आपके शरीर पर पड़ती हैं। आपको विटामिन डी देने के अलावा।

आप कई बीमारियों से भी बच सकते हैं।

इतना ही नहीं अगर रोजाना 5 से 10 मिनट तक नियमित रूप से सूर्य नमस्कार किया जाए तो आपको किसी और आसन की जरूरत नहीं है। क्योंकि यही एकमात्र आसन है जो शरीर की हर जरूरत को पूरा करता है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस हर साल 21 जून को मनाया जाता है। तो आइए इस मौके पर जानते हैं सूर्य नमस्कार के फायदों के बारे में जानकारी..

सबसे पहले हम जानेंगे कि सूर्य नमस्कार कितनी बार करना चाहिए

इस आसन का शरीर के लगभग सभी अंगों पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।
तो यह सभी योगों में सर्वश्रेष्ठ है। यदि सूर्य नमस्कार दिन में 5-12 बार किया जाता है तो किसी अन्य आसन की आवश्यकता नहीं होती है।
इस आसन को सुबह के समय किसी साफ और खुली हवादार जगह पर सूर्य की किरणों के विपरीत करना है।

सूर्य नमस्कार का अनुष्ठान
सूर्य नमस्कार में कुल 12 आसन होते हैं जिनमें 6 कर्मकांडों के बाद समान 6 चरणों को उल्टे क्रम में करना होता है।
आइए जानते हैं सूर्य नमस्कार के प्रत्येक चरण के लाभ

- सूर्य नमस्कार के पहले चरण को करने से शरीर का संतुलन के साथ-साथ एकाग्रता और मन की शांति बनी रहती है।

- सूर्य नमस्कार के दूसरे चरण से
शरीर में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन का प्रवाह होता है।
फेफड़ों को स्वस्थ रखने के साथ-साथ यह दिमाग के लिए भी अच्छा होता है और कंधे और पीठ के दर्द से राहत दिलाता है।

-
पीठ और रीढ़ की हड्डी में दर्द हो तो सूर्य नमस्कार का तीसरा चरण
आप के लिए सर्वश्रेष्ठ।
क्योंकि इससे मांसपेशियों को आराम मिलता है।
यह चेहरे के काले घेरों और दाग-धब्बों को भी दूर करता है।

- सूर्य नमस्कार का चौथा चरण करने से शरीर में प्रवाह तेज होगा और शरीर में लचीलापन आएगा।
यह न केवल स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करता है बल्कि सौंदर्य संबंधी समस्याओं को भी दूर करता है।

- सूर्य नमस्कार के पांच चरणों को करने से साइनस और अस्थमा जैसी सांस संबंधी समस्याएं दूर हो जाती हैं।
यह ऊर्जा भी प्रदान करता है।

- सूर्य नमस्कार का छठा चरण पीठ, कंधे और गर्दन को मजबूत करता है। वहीं, फेफड़े किडनी और पाचन तंत्र को ठीक से काम करते रहते हैं।

- सूर्य नमस्कार का सातवां चरण पेट की चर्बी, कमर दर्द,
डायबिटीज से बचाव के लिए स्लिप डिस्क सबसे अच्छा विकल्प है। साथ ही यह पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से भी छुटकारा दिलाता है।

शेष चरणों को शयन क्रम में करना है। साथ ही नियमित रूप से प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करने से स्मरण शक्ति भी बढ़ती है
रोजाना 10-15 मिनट सूर्य नमस्कार करने से शरीर में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ता है।
और कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकल जाती है। तो ऊर्जा शरीर में आती है।
- जिन महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म की समस्या होती है उन्हें यह आसन नियमित रूप से करना चाहिए। इससे मासिक धर्म नियमित होगा।

- इस आसन को करने से पेट के अंगों पर दबाव पड़ता है। तो पाचन तंत्र ठीक रहता है। इसके अलावा, खाली पेट सूर्य नमस्कार करने से कब्ज, अपच और पेट की सूजन से राहत मिलती है।
हां लेकिन स्लिप डिस्क और हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को सूर्य नमस्कार नहीं करना चाहिए।



 
loading...

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.