Good Friday 2022: गुड फ्राइडे पर क्या किया जाता है, क्यों मनाते हैं गुड फ्राइडे, क्या है इस दिन की मान्यता?

Samachar Jagat | Friday, 15 Apr 2022 03:06:31 PM
What is done on Good Friday

गुड फ्राइडे के दिन ईसाई धर्म के अनुयायी चर्च जाते हैं और प्रभु यीशु को इस प्रकार याद करते हैं:

यीशु के जन्म की खुशी के कुछ ही दिनों बाद ईसाई तपस्या, प्रायश्चित और उपवास का समय मनाते हैं। इस बार जो 'ऐश बुधवार' से शुरू होकर 'गुड फ्राइडे' के दिन समाप्त होता है जिसे 'लेट' कहा जाता है।

चर्च में एक लकड़ी की छड़ी को विश्वासियों के विश्वास के प्रतीक के रूप में क्रॉस के प्रतीक के रूप में रखा जाता है जिस पर यीशु को 'सूली पर चढ़ाया गया' था।
यीशु के चेले आते हैं और एक-एक करके उसे चूमते हैं।

इसके बाद दोपहर तीन बजे तक सेवा की जाती है। सेवा में ईसाई सिद्धांतों (चार सुसमाचार) में से किसी एक को पढ़ें।

समारोह के बाद एक प्रवचन, ध्यान और प्रार्थना होती है। इस बीच आस्तिक तीन घंटे तक प्रभु यीशु द्वारा सूली पर चढ़ाए गए दर्द को याद करता है।

इसके बाद मध्यरात्रि में एक सामान्य भोज सेवा होती है।
कई स्थानों पर, काले कपड़े पहने भक्त शोक जुलूस में यीशु की छवि लेकर चलते हैं और एक प्रतीकात्मक अंतिम संस्कार भी किया जाता है।


गुड फ्राइडे प्रायश्चित और प्रार्थना का दिन है इसलिए इस दिन चर्चों में घंटी नहीं बजाई जाती है।



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.