आखिर क्या है 'पेगासस' स्पाइवेयर ? जो आपके व्हाट्सएप्प तक को कर सकता है हैक

Samachar Jagat | Monday, 19 Jul 2021 11:01:28 AM
What is Pegasus spyware? Know how it works, and hacks into WhatsApp

नई दिल्ली: इजरायल की सर्विलांस कंपनी एनएसओ ग्रुप का स्पाइवेयर-पेगासस एक बार फिर चर्चा में है। दरअसल, फॉरबिडन स्टोरीज और एमनेस्टी इंटरनेशनल ने दावा किया है कि दुनिया भर के 10 देशों की सरकारें अपने लोगों की जासूसी कर रही हैं। इसे पेगासस प्रोजेक्ट का नाम दिया गया है। राडार पर 1571 लोग थे, लेकिन अभी यह स्पष्ट नहीं है कि सभी की जासूसी की गई है या नहीं। भारतीय पत्रकारों की सूची में 40 नाम हैं। हालांकि, भारत सरकार ने आरोपों को खारिज किया है।

यह पहली बार नहीं है जब इजरायली स्पाइवेयर पेगासस पर राजनेताओं, पत्रकारों की जासूसी करने का आरोप लगाया गया है। इस तरह के दावे पहले भी सामने आ चुके हैं। दरअसल Pegasus Spyware को इजरायल की साइबर सिक्योरिटी कंपनी NSO Group ने डेवलप किया है। शल्वा हुलियो और ओमारी लेवी ने 2008 में कंपनी की शुरुआत की। पेगासस स्पाइवेयर हैकर्स को स्मार्टफोन माइक्रोफोन, कैमरा, संदेश, ईमेल, पासवर्ड और स्थानों जैसे डेटा तक पहुंच प्रदान करता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, पेगासस आपको एन्क्रिप्टेड ऑडियो स्ट्रीम सुनने और एन्क्रिप्टेड संदेशों को पढ़ने की अनुमति देता है। यानी हैकर्स आपके फोन के लगभग सभी फीचर्स को एक्सेस कर सकते हैं।


एनएसओ ग्रुप के मुताबिक, प्रोग्राम को सिर्फ सरकारी एजेंसियों को बेचा गया है। उनका दावा है कि इसका उद्देश्य आतंकवाद और अपराध से लड़ना है। कंपनी की वेबसाइट पढ़ती है, "एनएसओ ऐसी तकनीक बनाता है जो सरकारी एजेंसियों को आतंकवाद और अपराध को रोकने और जांच करने में मदद करती है, और दुनिया भर में हजारों लोगों की जान बचाती है। हालांकि, कई देशों में लोगों की जासूसी करने के लिए इसका दुरुपयोग करने के आरोप लगे हैं।



 
loading...



Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.