कोरोना वायरस के खतरों के बावजूद लॉकडाउन को तोड़ते लोग

Samachar Jagat | Wednesday, 25 Mar 2020 08:34:30 AM
1387702033077496

कोरोना वायरस की वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन हफ्ते के लिए देश में लॉकडाउन का एलान कर दिया है. हालांकि इससे पहले देश के तीस राज्यों में कर्फ्यू या लॉकडाउन का एलान किया जा चुका था. हालांकि इस लॉकडाउन के बावजूद बिहार से लेकर दिल्ली और इंदौर से लेकर मुंबई तक लोग सड़कों पर निकले. कोरोना वायरस की परवाह उन्होंने नहीं की. कई जगह पुलिस ने समझाया तो कई जगह डंडे भी बरसाए. कई जगह फूल दिए लोगों को तो कई जगह पोस्टर थमा कर उन्हें समाज विरोधी बता डाला. देश के अलग अलग राज्यों में लगाये गये लॉकडाउन के बावजूद घरों से निकलने वालों को ठीक करने के लिए पुलिस ने नायाब तरीका निकाला. पुलिस उनके हाथों में पोस्टर थमा रही है और फिर फोटो खींच कर उसे वायरल कर रही है. पोस्टर पर लिखा है- मैं समाज का दुश्मन हूं, मैं घर पर नहीं रहूंगा.



loading...

उत्तर प्रदेश के बरेली में पुलिस ने लॉकडाउन के आदेश का उल्लंघन कर घरों से बाहर निकले लोगों के साथ यही सलूक किया. पुलिस ने उन्हें पकड़ कर हाथो में पोस्टर थमा डाला. फिर बेवजह बाहर निकले लोगों को सख्त नसीहत देकर छोड़ दिया. मध्य प्रदेश और बिहार पुलिस ने भी यही तरीका अपनाया. मंदसौर पुलिस ने ऐसी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर डाला, जिसमें लोग हाथों में पोस्टर पकड़े दिखाई दे रहे हैं. पुलिस ने लॉकडाउन तोड़ने वालों को फिलहाल यही सजा दी लेकिन फिर भी लोग नहीं सुधरे तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

पहले दिन लॉकडाउन की धज्जियां उड़ने के बाद पटना पुलिस अब सड़कों पर उतर गई है. मजाक बनाने वाले लोगों के साथ सख्ती के साथ पेश आ रही है. पटना के कई जगहों पर पुलिस ने बैरिकेडिंग कर दी है. चितकोहरा पुल, इनकम टैक्स, हड़ताली मोड़ सहित कई जगहों पर कार और बाइक से जाने वालों को पुलिस रोक रही है. पुलिस घर से बाहर निकलने का कारण भी लोगों से पूछ रही है. जो बिना वजह के निकले हैं उनको लौटने के लिए कहा जा रहा है. कुछ लोग दवा का बहाना बना रहे है तो पुलिस उनको डॉक्टर की पर्ची दिखाने के लिए बोल रही है. पुलिस अनिवार्य सेवा में लगे लोगों को ही जाने दे रही है. लोगों को पुलिस समझा रही है. कुछ पुलिस वालों का यह भी कहना है कि कई लोग तो लॉकडाउन का मतलब भी नहीं समझ रहे हैं. लेकिन सोमवार की अपेक्षा मंगलवार को कम लोग बाहर निकल रहे हैं.

वैसे यह भी सही है कि पहले जनता कर्फ्यू और उसके बाद लॉकडाउन को हल्के में लेने वाले लोग बुरे फंस गए हैं. पटना जंक्शन के बाहर ऐसे सैकड़ों लोग सड़क पर रात और दिन गुजार रहे हैं. दरअसल यह लोग रविवार को जनता कर्फ्यू के बीच पटना पहुंचे थे. ट्रेन से सफर कर पटना तक की यात्रा तो इन्होंने तय कर ली लेकिन इसके आगे जाने के लिए इन्हें गाड़ियां नहीं मिल रही है. कोरोना ने ऐसा सितम ढाया है कि इन्हें रात सड़क पर गुजारनी पड़ी. खाने-पीने का सामान भी मुश्किल से मिला. अब यह लोग रेलवे और सरकार के ऊपर अपना गुस्सा निकाल रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर जब जनता कर्फ्यू की अपील की थी, तब इन लोगों ने इसे हल्के तरीके से लिया था. कोरोना के खतरे की गंभीरता भी शायद यह नहीं समझ रहे हैं, इसलिए लोग लॉकडाउन की परवाह किए बगैर यह यात्रा पर निकल गए थे और अब बुरे फंसे हैं. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).


loading...


 
loading...

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.