कच्चे तेल की कीमत घटी लेकिन सरकार ने तीन रुपए का बोझ उपभोक्ताओं पर बढ़ाया

Samachar Jagat | Monday, 16 Mar 2020 03:52:11 PM
139434693763452

तेल की कीमतों में इजाफा हो गया है. केंद्र सरकार ने उपभोक्ताओं की जेब काटने के लिए तीन रुपए एक्साइज ड्यूटी व सरचार्ज बढ़ा दिया है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत तीस डालर प्रति बैरल तक पहुंच गई थी. अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट के बावजूद हाल ही में देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफ कर दिया गया. केंद्र सरकार के इस कदम पर विपक्ष ने हमला बोला. कांग्रेस नेता और सांसद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर तीखा हमला बोला. राहुल गांधी ने कहा कि अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर दामों में गिरावट का लाभ आम लोगों तक पहुंचाने की उनकी सलाह को नजरंदाज कर दिया गया.



loading...

राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि तीन दिन पहले ही मैंने प्रधानमंत्री कार्यालय से निवेदन किया था कि अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर तेल के दामों में गिरावट का लाभ आम लोगों तक पहुंचाया जाए और पेट्रोल और डीजल की कीमतें कम की जाएं. लेकिन इस सलाह को मानने की बजाय हमारे समझदार प्रधानमंत्री ने ईंधन पर एक्‍साइज ड्यूटी बढ़ा दी. अपने ट्वीट के साथ उन्‍होंने एक वीडियो भी साझा किया है जिसमें देखा जा सकता है कि अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर तेल की कीमतों में भारी गिरावट से जुड़े एक रिपोर्टर के सवाल से वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कथित तौर पर बचती दिख रही हैं.

सरकार ने शनिवार को पेट्रोल और डीजल पर तीन रुपए प्रति लीटर की दर से एक्‍साइज ड्यूटी में बढ़ोतरी कर दी थी जिससे उसे 39000 करोड़ रुपए का अतिरक्‍त राजस्‍व प्राप्‍त होगा. सरकार ने 2014-15 की तरह ही इस बार भी अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर तेल कीमतों में भारी गिरावट का लाभ आम लोगों तक नहीं पहुंचाने के अपने कदम को दोहराया. राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री एक चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने में व्यस्त हैं. ऐसे में इस हफ्ते कच्चे तेल की कीमतों में आई गिरावट की ओर उनका ध्यान नहीं गया. गांधी ने ट्वीट किया था कि पीएमओइंडिया, जब आप एक चुनी हुई कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रहे थे तब आप वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में आई 35 फीसद की गिरावट को नहीं देख पाए. अपने ट्वीट में गांधी ने प्रधानमंत्री से कहा था कि वे पेट्रोल के दाम घटाकर 60 रुपये प्रति लीटर से कम पर लाएं. इससे सुस्त अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने में मदद मिलेगी. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).


loading...


 
loading...

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.