राहुल गांधी ने फरवरी में कोरोना वायरस से चेताया था, सरकार ने नहीं दिखाई थी गंभीरता

Samachar Jagat | Wednesday, 25 Mar 2020 08:34:28 AM
1445973056293793

कोरोना वायरस के खतरे लोकर जितनी सतर्कता बरतनी चाहिए थी, वह सतर्कता सरकार ने नहीं बरती. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, दिल्ली दंगों और मध्यप्रदेश में सियासी उथलपुथल के बीच सरकार ने कोरोना की गंभीरता को नहीं समझा. जब कोरोना के खतरों को समझा तब तक देर हो चुकी थी. सरकार ने फैसले देर से लिए. विमानों पर पाबंदी लगाने या रेल-सड़क यातायात को बंद करने मे देर नहीं किया होता तो मामला इतना गंभीर नहीं होता. सरकार सियासी नफा-नुकसान में ही उलझी रही और देश को खतरे में ढकेल दिया. हालांकि अब कोरोना वायरस को लेकर सरकार लगातार एहतियात बरतने की कोशिश कर रही है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी करोना वायरस के खतरे को लेकर ट्वीट किया था. उन्होंने चेताया था लेकिन सरकार नहीं चेती और राहुल गांधी की बात को गंभीरता से नहीं लिया गया. राहुल गांधी ने 12 फरवरी को ट्वीट कर कोरोना वायरस के खतरे से आगाह किया था. दिलचस्प यह है कि अह राहुल गांधी का वह ट्वीट और सात दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लिट्टी-चोखा खाते हुए ट्वीट को साझा कर सोशल मीडिया पर नरेंद्र मोदी से सवाल किए जा रहे हैं.



loading...

राहुल गांधी ने कोरोना वायरस को लेकर ट्वीट किया था, जो खूब वायरल हुआ था. अब उस ट्वीट को लेकर फराह खान अली ने फिर से जिक्र किया है. उनके ट्वीट ने सबका खूब ध्यान खींचा है. अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने कोरोना वायरस के बारे में बताया था कि यह एक गंभीर मुद्दा है हमारे लोगों और हमारी अर्थव्यवस्था के लिए. इसके साथ ही उन्होंने सरकार पर भी इसे गंभीर रूप से न लेने का आरोप लगाया था. 

फराह खान अली ने अब राहुल गांधी के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा कि एक बार भले व्यक्ति ने कहा था. फराह खान अली के इस ट्वीट पर लोग खूब प्रतिक्रिया दे रहे हैं. राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में कोरोना वायरस को लेकर चेतावनी दी थी कि कोरोना वायरस हमारी जनता के लिए और हमारी अर्थव्यवस्था के लिए बहुत ही गंभीर मुद्दा है. मुझे लगता है कि सरकार इसे गंभीर रूप से नहीं ले रही है. समय पर कार्रवाई करना जरूरी है. संजय खान की बेटी फराह खान अली अपने विचारों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहती हैं. वेअपने ट्वीट के लिए भी खूब जानी जाती हैं. 

कोरोना वायरस की बात करें तो देश में इस वायरस की वजह से दस लोगों की मौत हो गई, जबकि 75 नए मामले सामने आए. करीब पांच सौ संक्रमित लोगों में से 41 विदेशी नागिरक व अन्य भारतीय हैं. मंगलवार को बंगाल और हिमाचल प्रदेश में एक एक-एक व्यक्ति की मौत हुई, जबकि इससे पहले गुजरात, बिहार महाराष्ट्र, कर्नाटक, दिल्ली और पंजाब में मौतें हुईं थीं. कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए देश में सबसे पहले पंजाब ने सोमवार को पूरे राज्य में कर्फ्यू लगा दिया और इससे केवल आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई थी. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).


loading...


 
loading...

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.