डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को चेताया तो राजनीति गरमाई

Samachar Jagat | Wednesday, 08 Apr 2020 05:08:08 AM
1892568433993879

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष के निशाने पर हैं. कोरोना वायरस के खतरों के बीच नरेंद्र मोदी के परम मित्र और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को चेताया तो विपक्ष ने सरकार पर सवाल उठाया और दोस्ती पर भी. ट्रंप ने जिस लहजे में बात की उसने सरकार को भी असहज किया और नरेंद्र मोदी को भी. ट्रंप का लहजा भारत को अपमानित करने वाला रहा इसलिए सरकार पर ज्यादा सवाल उठ रहे हैं. फरवरी में डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा पर मोदी ने उनकी दोस्ती के कसीदे पढ़े थे. अब मोदी ने उस दोस्ती को सवालो में खड़ा कर डाला है. दुनिया भर में कोरोना वायरस से दहशत है.

अमेरिका में भी कोरोना वायरस का कहर तेजी से फैल रहा है. वहां कोरोना संक्रमण के अब तक तीन लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. इस बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत से कोरोना के मरीजों के इलाज में इस्तेमाल हो रही मलेरिया रोधी दवाई हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के निर्यात पर लगी रोक को हटाने की मांग की है. ट्रंप ने संकेत दिया है कि भारत हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन के निर्यात पर लगे पाबंदी को हटा कर अमेरिका को इस दवा की आपूर्ति नहीं करता है तो वह इसका जवाब दे सकते हैं. ट्रंप ने कहा कि अगर मोदी मलेरिया की दवा भेजते हैं तो अच्छा रहेगा, लेकिन अगर नहीं भेजते हैं तो जवाबी कार्रवाई हो सकती है. इस धमकी ने सरकार को सकते में डाला और विपक्ष को सरकार पर हमला करने का मौका दे डाला.

ट्रंप ने कोरोना वायरस टास्कफोर्स ब्रीफिंग के दौरान वाइट हाउस में कहा कि भारत अमेरिका के साथ अच्छा कर रहा है और मुझे ऐसा कोई कारण नहीं दिखता कि भारत अमेरिका के दवा के ऑर्डर पर रोक जारी रखेगा. उन्होंने कहा कि मैंने रविवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की थी और मैंने कहा था कि अगर आप हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन की आपूर्ति को मंजूरी देते हैं तो हम आपके इस कदम की सराहना करेंगे. अगर वे दवा की आपूर्ति की अनुमति नहीं देते हैं तो भी ठीक है, लेकिन हां, वे हमसे भी इसी तरह की प्रतिक्रिया की उम्मीद रखें.

इससे पहले भी अमेरिका कोरोना मरीजों के इलाज के लिए भारत से इस दवा की मांग कर चुका है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को बताया है कि उन्होंने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है और उनसे हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवाई देने के गुजारिश की है ताकि कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज किया जा सके. अमेरिका के राष्ट्रपति ने कहा कि फोन पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है और भारत इस दवा की सप्लाई अमेरिका में सप्लाई के लिए गंभीर है. इस बीच राष्ट्रपति ट्रंप यह भी बताने से नहीं झिझके कि वह खुद भी इस दवा को खाएंगे. कोरोना वायरस महामारी से पैदा हुई स्थिति से निपटने पर मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ शनिवार को विस्तृत बातचीत की. दोनों नेताओं ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत-अमेरिका साझेदारी की पूरी ताकत का उपयोग करने का संकल्प लिया. भारत ने कोरोना के खतरे को देखते हुए इस दवा के निर्यात पर पाबंदी लगा रखी है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विशलेषण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.