कोरोना वायरस से अयोध्या में रामनवमी उत्सव पर संशय बरकरार, हो सकता है रद्द

Samachar Jagat | Saturday, 21 Mar 2020 08:31:59 AM
4173834371502538

अयोध्या में होने वाले नवरात्र उत्सव को लेकर संशय बरकरार है. कोरोना वायरस के खतरों के बीच क्या यह उत्सव होगा, इसे लेकर सवाल उठ रहे हैं. माना जा रहा है कि इसकी तैयारी चल रही है. इस मौके पर कितने लोग जुटेंगे, इसकी जानकारी नहीं है और जो खबरें मिल रहीं हैं और मीडिया को जो जानकारी दी जा रही है उसके मुताबिक अभी तक उतस्व स्थगित नहीं किया गया है. हालांकि ऐसा कहा जा रहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार जल्द ही इस सिलसिले में फैसला ले और उतस्व को टाल दे. नवरात्र करीब आते ही अयोध्या में रामलला को जन्मभूमि परिसर से अस्थायी मंदिर में स्थानांतरित करने की तैयारी तेज हो गई है. फाइबर के बने इस अस्थायी मंदिर में रामलला जन्मभूमि पर स्थायी भव्य मंदिर का निर्माण पूरा होने तक विराजेंगे. इस अस्थायी मंदिर में रामलला के विराजमान होने पर प्राण प्रतिष्ठा का पहला पूजन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे.



loading...

प्रस्तावित कार्यक्रम के मुताबिक मुख्यमंत्री 24 मार्च को अयोध्या पहुंचेंगे. उस दिन वे अयोध्या में किए जा रहे विकास कार्यों की समीक्षा करेंगे. इसके बाद वे वहीं रात्रि विश्राम करेंगे. अगले दिन मुख्यमंत्री अस्थायी मंदिर में रामलला के विराजमान होने पर प्राण प्रतिष्ठा का पूजन करेंगे. इस अवसर पर अयोध्या के संत और अयोध्या ट्रस्ट के सभी प्रमुख पदाधिकारी मौजूद रहेंगे. हालांकि मुख्यमंत्री के अयोध्या जाने पर फैसला लिया जाना बाकी है. माना जा रहा है कि कोरोना वायरस की वजह से उनका कार्यक्रम रद्द हो जाए. वैसे 24 मार्च से ही अयोध्या में रामनवमी का मेला भी शुरू हो रहा है जो कि दो अप्रैल तक चलेगा. इस दौरान श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है. कोरोना वायरस से सतर्कता के मौजूदा हालात में इस मेले में होने वाली रामभक्तों की भारी जुटान अयोध्या जिला प्रशासन के लिए चिंता का सबब है. फिलहाल मेला स्थगित नहीं हुआ है.

अयोध्या के जिलाधिकारी अनुज कुमार झा के मुताबिक रामनवमी के मेले में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ने को लेकर अयोध्या जिला प्रशासन पूरी तरह सतर्क है. मेला शुरू होने से पहले प्रशासन की ओर से कोरोना वायरस से बचाव के लिए एडवाइजरी जारी की जाएगी. फिलहाल डरने या घबराने की जरूरत नहीं है. उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के उपायों की जानकारी देने वाले पचास हजार पोस्टर अयोध्या के सभी प्रमुख स्थलों पर लगवाए जा रहे हैं. मेलार्थियों के बीच किसी भी तरह का संक्रमण न फैलने पाए इसके लिए सभी उपाय किये जाएंगे. 

दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की बैठक 30 मार्च को तय की गई है. इस बैठक में बोर्ड के नियमित कामकाज ही निपटाए जाएंगे. मगर उम्मीद लगाई जा रही है कि अयोध्या में बोर्ड के प्रस्तावित मस्जिद, इस्लामिक सेंटर और अस्पताल के निर्माण के लिए ट्रस्ट के गठन को भी इसी बैठक में अंतिम रूप दिया जाएगा. इस ट्रस्ट में 15 सदस्यों को शामिल किया जाएगा. बैठक की अध्यक्षता बोर्ड के अध्यक्ष जफर फारूकी करेंगे. पांच मार्च को बोर्ड की बैठक में इस ट्रस्ट के गठन पर विचार होना था. लेकिन किन्हीं कारणों से उस बैठक में इस मुद्दे को टाल दिया गया था. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें.


loading...


 
loading...

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.