जमीयत उलेमा हिंद ने मुसलमानों से घरों में नमाज पढ़ने को कहा

Samachar Jagat | Friday, 27 Mar 2020 01:09:10 AM
4249093237279029

सतर्कता और जागरूकता ही एक मात्र तरीका है कोरोना जैसी महामारी से बचने का. जमीयत उलेमा हिंद कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने की सभी से गुजारिश करती है और इस दौरान सभी से खुले दिल से गरीबों और बेसहारा लोगो की मदद करने कि अपील भी करती है. मौलाना मदनी ने कहा कि इस वक़्त देश परेशानी से गुजर रहा है और सभी को एकजुट होकर कोरोना जैसी महामारी से लड़ना होगा. नमाज अदा करने को लेकर मौलाना मदनी ने कहा पूरे देश में इस वक़्त लॉकडाउन है इसलिए मुसलमानों को मस्जिदों के बजाय अपने अपने घरों में नमाज अदा करनी चाहिए और मस्जिद में इमाम सहित केवल चार लोग (इमाम, मुअज्जिन, खादिम) ही जुमे की नमाज पढ़े. जुमा के अलावा इमाम, खादिम, मुअज्जिन अजान देकर मस्जिद में पांचों वक़्त की नमाज जमात के साथ अदा करें और बाकी लोग अपने-अपने घरों में नमाज पढ़ें.



loading...

कोरोना महामारी आज पूरी दुनिया के लिए खतरा बन चुकी है और इसके बढ़ते प्रभाव से लोग परेशान है और इसके फैलने का खतरा बना हुआ है. जमीयत उलेमा हिंद पूरे विश्व में अपने सभी कार्यकर्ताओं से अपील करती है कि वे इस महामारी से बचाव के लिए जनहित में जारी हर चिकित्सीय सलाह पर अमल करें और ज्यादा से ज्यादा लोगो को जागरूक करें. मौलाना मदनी ने कहा कि कोरोना के कारण कोई भी व्यक्ति जिसको थोड़ा भी अपने स्वास्थ्य को लेकर संदेह हो वे खुद को औरों से अलग करें और तुरंत सरकार के निर्देशित सहायता फोन नंबरों पर अपने स्वास्थ्य कि जानकारी साझा करें.

मौलाना मदनी ने सभी धार्मिक, व्यवसायिक, सामाजिक संस्थानों को निर्देशित करते हुए कहा कि वे अपने संस्थानों को पूरी तरह सेनेटाइज करते रहे और किसी भी व्यक्ति जिसका भी स्वास्थ्य खराब हो उसको घर में ही रहने की अपील करें जिससे कि कोरोना के बढ़ते प्रभाव से बचाव में आसानी हो सके. मौलाना मदनी ने कहा कि कोरोना के कारण आज पूरी दुनिया में आर्थिक रूप से कमजोर तबकों के लिए रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है इसलिए जो भी सुविधा संपन्न हो वे उनकी रोजी रोटी का भी खयाल रखें और इस दौरान हर संस्थान जिससे जो भी मदद हो सके वह खुले दिल से करे. 

कोरोना महामारी मानवीय जीवन की त्रासदी है और इससे हम सभी को बिना किसी आर्थिक, सामाजिक और धार्मिक भेदभाव से लड़ना है. मौलाना मदनी ने यह भी कहा कि जिस तरह से हम सभी ने जनता कर्फ्यू को अपनाया उसी तरह हमें इस महामारी से लड़ना होगा क्योंकि सिर्फ सतर्कता की एक मात्र बचाव है इस संक्रामक महामारी से लडने के लिए, सब एकजुट रहें और एक दूसरे के हौसले को मजबूत बनाएं. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).


loading...


 
loading...

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.