यस बैंक मनी लॉंड्रिंग मामलाः सुभाष चंद्रा व अनिल अंबानी को ईडी का समन

Samachar Jagat | Wednesday, 18 Mar 2020 07:12:38 AM
4502379707762150

यस बैंक मामले में बड़े नामों के सामने आने के बाद सरकार और बैंकिंग व्यवस्था पर सवाल उठने लगे हैं. संसद में राहुल गांधी ने भी सवाल उठाया और पूछा के सरकार उन पचास लोगों के नाम बताए जो देश के कर्जदार हैं. लेकिन सरकार ने नाम बताने की बजाय टालमटोल करती रही. इस बीच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने यस बैंक के कर्जदारों को समन जारी किया है. इनमें अनिल अंबानी से लेकर सांसद और जी न्यूज के मालिक सुभाष चंद्रा भी शामिल हैं. सुभाष चंद्रा पर अपने चैनल के जरिए सरकार का पक्ष लेने के आरोप लगते रहे हैं. भाजपा की मदद से ही सुभाष चंद्रा राज्यसभा के लिए चुने गए थे.

सुभाष चंद्रा को यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर से जुड़े एक मनी लॉंड्रिंग मामले में तलब किया गया है. सुभाष चंद्रा के एस्सेल ग्रुप पर कथित तौर पर संकटग्रस्त यस बैंक का आठ हजार करोड़ रुपए से ज्यादा बकाया है. सुभाष चंद्रा को प्रवर्तन निदेशालय ने बुधवार को तलब किया है. गुरुवार को अनिल अंबानी और अवंता समूह के गौतम थापर को भी तलब किया गया है. रिलायंस समूह के प्रमुख अनिल अंबानी ने स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए अधिक समय देने का अनुरोध किया था. इसके बाद ईडी ने उनको एक ताजा समन जारी किया है. प्रवर्तन निदेशालय नियमों के उल्लंघन में यस बैंक के विभिन्न संगठनों या कंपनियों को दिए गए संदिग्ध ऋणों के आरोपों की जांच कर रहा है.

यस बैंक भारत का चौथा सबसे बड़ा निजी बैंक है जिसने कथित रूप से 34,000 करोड़ रुपए से अधिक के बैड लोन दिए. इस महीने की शुरुआत में भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से यस बैंक पर प्रतिबंध लागू करने और खाताधारकों तो हर महीने पचास हजार रुपए से अधिक की निकासी पर रोक लगाने के बाद इस बैंक का संकट बढ़ गया. परेशानी में फंसे इस निजी क्षेत्र के बैंक की मदद के लिए रिजर्व बैंक ने योजना बनाई. इसके तहत बैंक भारतीय स्टेट बैंक यस बैंक में 49 फीसद तक की हिस्सेदारी का अधिग्रहण करेगा. उसकी यस बैंक में न्यूनतम 26 फीसद की हिस्सेदारी तीन साल के लिए बनाए रखने की आवश्यकता होगी. 

प्रवर्तन निदेशालय ने सुभाष चंद्रा, अनिल अंबानी के अलावा जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल और इंडिया बुल्स के चेयरमैन समीर गहलोत समेत कुछ दूसरे बड़े उद्योगपतियों को इस सप्ताह तलब किया है. ईडी ने यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर व अन्य के खिलाफ दायर मनी लांड्रिंग मामले की जांच के सिलसिले में इन उद्योगपतियों को तलब किया है. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. ये उद्योगपति उन शीर्ष पांच कंपनियों का नेतृत्व करते हैं जिन्होंने संकट में फंसे यस बैंक से कर्ज लिया. ये कर्ज या तो लौटाए नहीं गए या फिर फंसे हुए हैं. बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय ने अवंथा ग्रुप के प्रोमोटर गौतम थापर को भी समन जारी किया था. यस बैंक ने नियमों को ताक पर रखकर विभिन्न कंपनियों को दिए गए लोन की ईडी जांच कर रही है. मनी ​लॉंड्रिंग के आरोप में ईडी ने सबसे पहले यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को गिरफ्तार किया था. राणा कपूर पर ईडी का आरोप है कि उन्होंने व्यक्तिगत हित के लिए 4,300 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की है. उन्होंने नियमों का उल्लंघन करते हुए विभिन्न कंपनियों को कर्ज देने में मदद की है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.