मरकज़ मामले में अरविंद केजरीवाल और आप विधायक आमने सामने

Samachar Jagat | Thursday, 02 Apr 2020 01:12:33 PM
568382856134724

आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान के ट्वीट ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की परेशानी बढ़ी दी है और उन्हें सवालों में खड़ा कर दिया है. तबलीगी जमात और मरकज कोरोना की दहशत के बीच ही चर्चा के केंद्र में आ गया है. मरकज में इज्तेमा के बाद वहां जमा लोगों की वजह से कोरोना वायरस को भी मजहब के सांचे में फिट करने की लगातार कोशिशें की जा रही हैं. दिलचस्प यह है कि बुधवार को मजनू का टीला गुरुद्वारा में फंसे सैंकड़ों सिख श्रद्धालुओं को पुलिस ने बाहर निकाल कर क्वारेइंटाइन केंद्र पहुंचाया. लेकिन चैनलों ने सैकड़ों सिख श्रद्धालुओं पर चुप्पी साधे रखी है. ठीक भी है यह लेकिन निजामुद्दीन मामले को देश के चैनलों ने सांप्रदायिक रंग देकर कोरोना वायरस के खतरों को मजहबी रंग दे दिया. जिसे सही नहीं कहा जा सकता. वैसे आम आदमी पार्टी के विधायक के ट्वीट ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी कठघरे में खड़ा कर डाला है.

मजनू के टीला गुरुद्वारा पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चुप्पी भी सवाल खड़े करती है. सवाल इसलिए भी अरविंद केजरीवाल की नीयत पर हो रहे हैं क्योंकि उनके विधायक ही कह रहे हैं कि उन्होंने 23 मार्च को ही पुलिस को सूचित किया था. तो क्या इसकी सूचना अरविंद केजरीवाल को नहीं थी. सवाल यह है कि अगर आप विधायक अमानतुल्लाह खान ने पुलिस को 23 मार्च को सूचना दे दी थी तो दिल्ली पुलिस व केजरीवाल सरकार ने इस पर तब कार्रवाई क्यों नहीं की. अब एफआईआर की बात कर वह अपना पल्ला तो झाड़ नहीं रहे हैं.

ओखला क्षेत्र से आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने दावा किया है कि उन्होंने निजामुद्दीन मरकज मामले में पुलिस को 23 मार्च को रात 12 बजे इस बारे में जानकारी दी थी, लेकिन इसपर कार्रवाई नहीं की गई. दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के मरकज में पहली मार्च से 15 मार्च के बीच करीब दो हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे और अब कई लोग कोरोनावायरस के पॉजिटिव पाए गए हैं. साथ ही मरकज में शामिल होने वाले लोग देश के कई हिस्सों में जा चुके हैं तो कोरोना के संक्रमण का फैलने का खतरा काफी हद तक बढ़ गया है. अमानतुल्ला खान ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करके जानकारी दी. उन्होंने लिखा कि 23 मार्च को रात 12 बजे मैंने डीसीपी साउथ ईस्ट और एसीपी निजामुद्दीन को बता दिया था कि निजामुद्दीन मरकज़ में एक हजार के आस-पास लोग फंसे हुए हैं, फिर पुलिस ने इनको भेजने का इंतज़ाम क्यों नहीं किया.

दक्षिण दिल्ली की वह इमारत जहां निजामुद्दीन मरकज के तहत कई देशों के लोग वहां पहुंचे थे. उसे केंद्र को कोरोनावायरस हॉटस्पॉट (जहां संक्रमित लोगों की संख्या ज्यादा है) घोषित किया गया है. मरकज में तीन दिनों तक एक धार्मिक आयोजन में कई देशों के हजारों लोगों ने हिस्सा लिया था, जिसमें से अब तक सौ से ज्यादा लोगों का टेस्ट पॉजिटिव आ चुका है, जबकि सात लोगों की मौत हो चुकी है. जानकारी के मुताबिक 28 मार्च को गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर बताया था कि हमें सूचना मिली है कि तबलीगी जमात में एक धार्मिक कार्यक्रम चल रहा है, हमें आशंका है कि अन्य देशों से आए लोगों से कोरोनावायरस का संक्रमण फैल सकता है.

अमानतुल्लाह खान ने पुलिस और डीएम की भूमिका पर भी सवाल उठाया और ट्वीट कर पूछा कि इनके खिलाफ क्या कार्रवाई की जारही है. अपने ट्वीट में अमानतुल्लाह खान ने लिखा कि एलजी साहब डीएम और पुलिस पर कारवाई नहीं होगी क्या. क्या डीएम और पुलिस नहीं जानती थी कि मरकज़ निज़ामुद्दीन में कोरोना के पेशेंट हैं, तो फिर 2361 लोगों को कोरना से मरने के लिए क्यों छोड़ दिया. एडीएम मीणा ने 23 मार्च को मुझे ख़ुद बताया था कि मरकज़ में कोरोना के मरीज़ हैं. अमानतुल्लाह खान अगर सही हैं तो सरकार और प्रशासन पर भी उतने ही गंभीर सवाल खड़े होते हैं जितने सवाल मरकज के प्रबंधकों पर होते हैं.

जाहिर है कि ऐसे में केजरीवाल पर भी उंगलियां उठेंगी क्योंकि खुद केजरीवाल के ही विधायक बता रहे हैं कि उन्होंने 23 मार्च को सरकार को सूचना दी थी फिर केजरीवाल ने अपने विधायक की जानकारी देने के बावजूद कार्रवाई क्यों नहीं की. कार्रवाई में विलंब अरविंद केजरीवाल की नीयत पर भी सवाल खड़े कर रहा है और पुलिस पर भी. पुलिस ने 23 मार्च को मरकज़ के प्रबंधकों के साथ बैठक की थी तो उस दिन ही वहां से लोगों को बाहर निकालने या फिर क्वारेंटाइन केंद्र भेजने के लिए पहल क्यों नहीं की. दिल्ली पुलिस को अगर वहां लोगों की जानकारी थी तो उसे वहां से भीड़ हटाने के लिए कार्रवाई करने में एक हफ्ते की देर क्यों की. इसके पीछे कोई साजिश तो नहीं. पुलिस कठघरे में इसलिए भी है कि वीडियो उसने ही जारी किया था. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.