कंपनियों पर लाभांश वितरण कर समाप्त, लाभांश पाने वाले पर लगेगा कर

Samachar Jagat | Saturday, 01 Feb 2020 05:18:54 PM
Dividend distribution tax on companies abolished, tax on dividend payer

नई दिल्ली। सरकार ने शुक्रवार को कंपनियों पर लाभांश वितरण कर हटाने का प्रस्ताव किया। इससे अब लाभांश पर कर लाभांश प्राप्तकर्ता के हाथ में पहुंचने पर लगेगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्रीय बजट पेश करते हुए कहा कि प्रस्ताव से भारत निवेश के लिये और आकर्षक स्थल बनेगा।

उन्होंने कहा, ‘‘यह एक और महत्वपूर्ण साहसिक कदम है जिससे भारत निवेश के लिये आकर्षक गंतव्य बनेगा।’’ वित्त मंत्री के अनुसार हालांकि इससे 25,000 करोड़ रुपये का राजस्व नुकसान होगा। फिलहाल कंपनियों को शेयरधारकों को दिये जाने वाले लाभांश भुगतान पर 15 प्रतिशत की दर से लाभांश वितरण कर (डीडीटी) देना होता है। इसके अलावा इस पर अधिभार और उपकर लगता है। यह कंपनी द्वारा लाभ पर दिये गये कर के अतिरिक्त होता है।

सीतारमण ने कहा, ‘‘भारतीय शेयर बाजार को और आकर्षक बनाने और निवेशकों को राहत देने के लिये मैं डीडीटी हटाने का प्रस्ताव करती हूं और लाभांश कराधान की पुरानी व्यवस्था अपनाने का प्रस्ताव करती हूं। इसके तहत कंपनियों को डीडीटी भुगतान की आवश्यकता नहीं होगी।’’

उन्होंने कहा,‘‘लाभांश कर का भुगतान केवल उसे प्राप्त करने वाले को उस पर लगने वाली दर के आधार पर करना होगा।’’ वित्त मंत्री ने कहा कि डीडीटी लगाने से निवेशकों पर कर बोझ पड़ता है। खासकर उन पर जो आय में लाभांश जोडऩे पर डीडीटी के मुकाबले कम दर से कर चुकाने के हकदार हैं। उन्होंने यह भी कहा कि ज्यादातर विदेशी निवेशकों को उनके अपने देश में डीडीटी क्रेडिट का लाभ उपलब्ध नहीं होने से उनके लिये शेयर पूंजी के प्रतिफल में कमी आती है। वित्त मंत्री ने कहा कि डीडीटी के हटाने से सालाना 25,000 करोड़ रुपये के राजस्व नुकसान का अनुमान है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.