मुझे पूरक प्रश्न पूछने नहीं दिया गया, सरकार गबनकर्ताओं का नाम बताने से क्यों डर रही है : राहुल

Samachar Jagat | Tuesday, 17 Mar 2020 09:05:23 AM
I was not allowed to ask supplementary questions, why is the government afraid to name the embezzlers: Rahul

नयी दिल्ली,  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को आरोप लगाया कि जानबूझकर कर्ज की अदायगी नहीं करने वालों (विलफुल डिफाल्टर्स) को लेकर लोकसभा में पूरक प्रश्न पूछने नहीं दिया गया और बतौर सांसद उनके अधिकार की रक्षा नहीं की गई।



loading...

गांधी ने यह सवाल भी किया कि आखिर सरकार देश के 5० सबसे बड़े विलफुल डिफाल्टर्स के नाम बताने से क्यों डर रही है?

उन्होंने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा, ''यह सांसद का अधिकार है कि वह पूरक पूश्न पूछे। मैंने सवाल किया कि 5० विलफुल डिफाल्टर्स का नाम बताइए जिसका मंत्री ने जवाब नहीं दिया। मैं पूरक प्रश्न पूछना चाहता था।’’

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ''यह लोकसभा अध्यक्ष का कर्तव्य था कि वह मेरे अधिकार की रक्षा करें और पूरक प्रश्न पूछने की इजाजत देते, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। सवाल पूछने के मेरे अधिकार को छीनना पूरी तरह अनुचित है। ’’
गौरतलब है कि ऐसी परिपाटी रही है कि मूल प्रश्नकर्ता सदस्य अधिकतम दो पूरक प्रश्न पूछ सकता है।

प्रश्नकाल की अवधि लोकसभा में 11 बजे से 12 बजे तक होती है और इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष अन्य महतवपूर्ण दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाते हैं।
राहुल ने सवाल किया, ''सरकार विलफुल डिफाल्टर्स के नाम लेने से क्यों डर रही है? 5० लोगों ने भारतीय पैसों की चोरी की है। हम जानते हैं कि अर्थव्यवस्था की स्थिति ठीक नहीं है। फिर इन लोगों के नाम क्यों नहीं बता रहे हैं?’’

गांधी ने कहा, '' मैं लगातार आगाह करता आ रहा हूं कि कोरोना वायरस की स्थिति में अर्थव्यवस्था और बैंकों की हालत बहुत खराब हो सकती है। दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि इस तरह के कदमों से कोई मदद नहीं मिलेगी

loading...


 
loading...

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.