भारत-चीन के बीच बनी सहमति, सैनिकों की और तैनाती नहीं करेंगे दोनों देश

Samachar Jagat | Wednesday, 23 Sep 2020 08:23:50 AM
India-China agree, both countries will not deploy troops

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख सीमा पर लंबे समय से जारी गतिरोध के बीच दोनों देशों के कमांडर स्तरीय वार्ता में तनाव कम होने की उम्मीद जागी है।

पूर्वी लद्दाख स्थित वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बने सैन्य तनाव को खत्म करने में जुटे भारत और चीन के बीच इस बात की सहमति बनी है कि अब वे सीमा पर और सैनिकों की तैनाती नहीं करेंगे।

यह सहमति सोमवार को दोनों देशों के बीच तकरीबन 14 घंटे तक चली कमांडर स्तरीय वार्ता में बनी। 10 सितंबर को दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की मास्को में हुई बातचीत में पांच मुद्दों पर बनी सहमति के बाद यह पहली सैन्य वार्ता थी। दोनों पक्षों ने संयुक्त बयान जारी कर इसकी जानकारी दी है।

संयुक्त बयान में उन बातों का जिक्र है जिसको लेकर सहमति बनी है।

  • ये हैं ग्राउंड यानी विवाद वाली जगह पर संवाद को बढ़ाना
  • एक-दूसरे को लेकर गलतफहमी दूर रहना,
  • फ्रंटलाइन (सीमा) पर और सैनिकों की तैनाती को रोकना,
  • ग्राउंड पर यथास्थिति बदलने से रोकना।
  • दोनों पक्ष कोई भी ऐसा कदम नहीं उठाएंगे जिससे मौजूदा हालात और पेचीदा हो जाएं।

इसमें आगे कहा गया है कि जितनी जल्द हो सके सैन्य कमांडरों के बीच 7वें दौर की बातचीत होगी ताकि एलएसी पर जो समस्या पैदा हुई है उसका समाधान हो सके और सीमावर्ती इलाकों में अमन व शांति की बहाली हो सके।

हालांकि इसे अभी भी गलवन नदी घाटी व पैंगोग झील के दक्षिणी इलाकों में सैन्य तनाव को खात्मे की गारंटी नहीं माना जा सकता। भारतीय सेना पूरी तरह से सतर्क है और जब तक चीन की तरफ से सैनिकों की वापसी की शुरुआत नहीं होती है तब तक वह कोताही नहीं बरतने वाली।

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.