महाराष्ट्र में 150 से ज़्यादा लोगों की मौत, 5-6 भूस्खलन एक साथ होने के कारण बढ़ा मौत का आंकड़ा, सांगली और कोल्हापुर में हालात ज्यादा खराब : NDRF DG

Samachar Jagat | Wednesday, 28 Jul 2021 06:04:45 PM
More than 150 people died in Maharashtra, death toll increased due to simultaneous 5-6 landslides, situation more in Sangli and Kolhapur: NDRF DG

इंटरनेट डेस्क। महाराष्ट्र में भारी बारिश, बाढ़, लैंडस्लाइड के कारण तबाही का मंजर लगातार देखा रहा है। डेढ़ सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। वहीं हजारों लोग बाढ़ की चपेट में आने से लगातार प्रभावित हुए हैं। आज शनिवार को एनडीआरएफ के महानिदेशक एस.एन.प्रधान ने कहा कि महाराष्ट्र में 150 से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है और ज़्यादातर लोगों की मौत भूस्खलन की वजह से हुई है। 5-6 भूस्खलन एक साथ होने की वजह से मौतों का आंकड़ा ज़्यादा हुआ। स्थिति अभी नियंत्रण में है, सांगली और कोल्हापुर में स्थिति थोड़ी खराब है, कार्रवाई लगातार जारी है। 

 

Separate cloudburst incidents were also reported in J&K's Kishtwar and Himachal Pradesh's Lahaul-Spiti. Two teams from Srinagar & Ludhiana are being sent to Kishtwar: NDRF DG SN Pradhan pic.twitter.com/0OXnag7wig

— ANI (@ANI) July 28, 2021

एएनआई न्यूज एजेंसी के अनुसार, एनडीआरएफ के डीजी प्रधान ने हिमाचल प्रदेश में हुए भूस्खलन पर भी बयान दिया। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के लाहौल ​स्पीति और जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने के बाद कार्रवाई की जा रही है। किश्तवाड़ में टीमें नहीं पहुंची हैं, त​ब तक राज्य सरकार की एजेंसियां काम कर रही हैं। 

 

More than 150 deaths have been reported, most of them due to landslides. But, the overall situation is under control except for Sangli, Kolhapur, & Satara. Our 12-14 teams will stay in Maharashtra till the rescue work ends: NDRF DG SN Pradhan pic.twitter.com/aNOnPclhkB

— ANI (@ANI) July 28, 2021

गौरतलब है कि देशभर में प्राकृतिक आपदा के बाद लोगों को बचाने, उन्हें सुरक्षित स्थान तक पहुंचाने, भोजन पैकेट वितरित करने सहित कई कार्यों में एनडीआरएफ द्वारा लगातार सहयोग किया जाता है। एनडीआरएफ के जवान लगातार रेस्क्यू आपरेशन चला रहे हैं। 

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.