कश्मीर में आतंकियों के एनकाउंटर पर दुखी नजर आईं PDP चीफ महबूबा मुफ्ती, बोलीं - आतंकवादियों की मौत पर जश्न मना रही है भारत सरकार

Samachar Jagat | Saturday, 28 Aug 2021 05:54:58 PM
PDP Chief Mehbooba Mufti was saddened by the encounter of terrorists in Kashmir, said - Indian government is celebrating the death of terrorists

इंटरनेट डेस्क। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों द्वारा लगातार की जा रही आतंक विरोधी आपरेशनों के चलते कश्मीर की पीडीपी पार्टी की मुखिया महबूबा मुफ्ती को परेशानी हो रही है। एक तरफ भारतीय सेना आतंकियों का लगातार एनकाउंटरों में सफाया कर रही है वहीं महबूबा मुफ्ती आतंक के सफाए से शायद दुखी हैं। यही वजह है कि उन्होंने आज एक ट्वीट करके केंद्र सरकार का विरोध किया है। जम्मू कश्मीर में आतंकियों पर हो रही कार्रवाई को लेकर राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती ने लिखा है कि रोज आतंकियों को मार कर केंद्र सरकार जश्न मना रही है। 

 

Daily encounters where militants are killed have become a a source of celebration for GOI. But PDP doesn’t believe in violence or dignity in death. We want to fight peacefully & politically. By discouraging political activities GOI is pushing Kashmiris to the wall

— Mehbooba Mufti (@MehboobaMufti) August 28, 2021

एएनआई न्यूज एजेंसी के अनुसार, पीडीपी की चीफ महबूबा मुफ्ती ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से लिखा है कि हर रोज मुठभेड़ में आतंकवादी मारे जाते हैं। भारत सरकार के लिए आतंकवादियों की मौत एक उत्सव की तरह है। लेकिन पीडीपी हिंसा या मौत में विश्वास नहीं करती है। हम शांतिपूर्ण और राजनीतिक रूप से लड़ना चाहते हैं। राजनीतिक गतिविधियों को हतोत्साहित करके भारत सरकार कश्मीरियों को दीवार पर धकेल रही है। 

 

Preventing PDP youth from holding a meeting in South Kashmir reinforces GOIs strategy of not allowing any meaningful political engagement.Esp one that involves Kashmiri youngsters.GOI wants to justify their iron fist approach by branding all Kashmiris as perpetrators of violence

— Mehbooba Mufti (@MehboobaMufti) August 28, 2021

एक अन्य टवीट में उन्होंने लिखा है कि पीडीपी युवाओं को दक्षिण कश्मीर में एक बैठक आयोजित करने से रोकना किसी भी सार्थक राजनीतिक जुड़ाव की अनुमति नहीं देने की भारत सरकार की रणनीति को पुष्ट करता है। विशेष रूप से कश्मीरी युवाओं को शामिल करता है। भारत सरकार सभी कश्मीरियों को हिंसा के अपराधियों के रूप में ब्रांड करके अपने लोहे के मुट्ठी के दृष्टिकोण को सही ठहराना चाहता है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.