'लाल टोपी वाले लोग हैं सत्ता के भूखे', गोरखपुर में पीएम मोदी ने समाजवादी पार्टी पर साधा निशाना

Samachar Jagat | Tuesday, 07 Dec 2021 03:04:48 PM
'People with red caps are power hungry', PM Modi targets Samajwadi Party in Gorakhpur

गोरखपुर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गोरखपुर जिले को बड़ी सौगात दी. दरअसल, पीएम मोदी आज गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट खाद फैक्ट्री, एम्स और बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (आरएमआरसी) को 10,000 करोड़ रुपये की लागत से समर्पित करने के लिए शामिल हुए। 2016 में खाद कारखाने और एम्स की आधारशिला प्रधानमंत्री ने रखी थी और अब उन्होंने खुद इसे लोगों को समर्पित किया है। अब वह जनता को संबोधित कर रहे हैं।

अपने संबोधन में, पीएम मोदी ने कहा, "हमने तीन स्रोतों पर काम करना शुरू किया - यूरिया की 100 प्रतिशत नीम कोटिंग और दुरुपयोग को रोका। दूसरे ने लोगों को यूरिया कार्ड दिए कि खेत को खाद की आवश्यकता कैसे है। तीसरा, हमने यूरिया का उत्पादन बढ़ाया। हम बंद कारखाने खोल रहे हैं। एक शुरू हो गया है और बाकी आने वाले वर्षों में भी खुल जाएगा। जिस तरह भगीरथ जी गंगा लाए थे, उसी तरह गंगा को इस उर्वरक कारखाने में ईंधन पहुंचाने के लिए लाया गया है। से एक गैस पाइपलाइन बिछाई गई है हल्दिया से गोरखपुर। इससे पूर्वी यूपी के कई शहरों में गैस पाइपलाइनों से ईंधन और सस्ती गैस पहले ही पहुंच चुकी है। मैंने कहा कि गोरखपुर यूपी के विकास की धुरी बनेगा जो सच हो रहा है। कारखाना रोजगार और स्वरोजगार के अवसर भी प्रदान करेगा पूर्वांचल में कई नए कारोबार शुरू होंगे।'


 
साथ ही उन्होंने कहा, ''हमने कोरोना काल में देखा है कि खाद के मामले में आत्मनिर्भरता क्यों जरूरी है. अंतरराष्ट्रीय व्यापार बंद होने से अंतरराष्ट्रीय बाजार में खाद की कीमतों में भी भारी उछाल आया. लेकिन हमने किसानों पर बोझ नहीं पड़ने दिया। इस साल जब खाद की कीमत बढ़ी तो हमें सब्सिडी में 43,000 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी करनी पड़ी। क्योंकि कीमतों का असर हमारे किसानों पर नहीं होना चाहिए। जबकि खाद बेची जा रही है दुनिया में 60-65 रुपये प्रति किलो के दाम पर हम इसे भारत में 10 से 12 गुना कम कीमत पर उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसके लिए एक राष्ट्रीय मिशन भी शुरू किया गया है।'

उन्होंने आगे कहा, "गन्ना किसानों का गढ़ पूर्वांचल का यह क्षेत्र इथेनॉल उत्पादन के लिए भी महत्वपूर्ण है। पहले खाड़ी का तेल आता था, अब झाड़ी का तेल भी आने लगा है। मैं अभूतपूर्व करने के लिए योगी सरकार की सराहना करता हूं। गन्ना किसानों के लिए काम। कीमत बढ़कर 350 रुपये हो गई। पिछली दो सरकारों ने जितना किया, योगीजी ने गन्ना किसानों को सिर्फ साढ़े चार में भुगतान किया।''



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.