रेलवे के एकल पुरुष कर्मियों को भी मिलेगा शिशु देख-रेख अवकाश

Samachar Jagat | Friday, 20 Mar 2020 02:22:56 PM
Single male workers of railway will also get child care leave


नयी दिल्ली , रेलवे में कार्यरत एकल पुरुषों को भी महिलाओं की तर्ज पर बच्चों की देखरेख के लिए ०1 अप्रैल से शिशु देख-रेख अवकाश की सुविधा मिलेगी।



loading...

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को राज्य सभा में प्रश्नकाल के दौरान एक पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा कि रेलवे विभाग में कार्यरत एकल पुरुष रेल कर्मी को बच्चों को सँभालने के लिए महिलाओं की भाँति शिशु देख-रेख अवकाश की सुविधा प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया है।

 यह सुविधा आगामी ०1 अप्रैल से लागू होगी। उन्होंने कहा कि विभिन्न कारणों से कई बार बच्चों की परवरिश की जिम्मेदारी पुरुष के कंधों पर आ जाती है। ऐसी स्थिति में एकल पुरुष रेलकर्मियों को महिलाओं के समान शिशु देख-रेख अवकाश की सुविधा प्रदान की जायेगी।

रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगडी ने एक अन्य पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा कि रेल विभाग में शिशु देख-रेख अवकाश बच्चे की 18 वर्ष की उम्र तक उसके इलाज, परीक्षा आदि के लिए लिया जा सकता है।

 यह अवकाश बच्चे के जन्म लेने के एक या दो वर्ष तक के लिए ही सीमित नहीं है। इस अवकाश के दौरान संबंधित कर्मी को प्रथम वर्ष में 1०० प्रतिशत वेतन तथा दूसरे वर्ष में वेतन का 8० फीसदी भुगतान किया जाता है।

loading...


 
loading...

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.