कश्मीर की स्थिति में परिवर्तन नहीं, हड़ताल जारी

Samachar Jagat | Thursday, 07 Nov 2019 04:51:43 PM
The situation in Kashmir does not change, the strike continues

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को समाप्त किये जाने के विरोध में कश्मीर घाटी में गुरुवार को भी हड़ताल जारी रही और क्षेत्र की स्थिति में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है। केंद्र सरकार ने पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 को समाप्त करने का फैसला किया था और यह निर्णय लिये तीन महीने से अधिक समय हो गया लेकिन कश्मीर में हड़ताल जारी है।

पुलिस ने बताया कि गुरुवार को श्रीनगर समेत घाटी के किसी भी हिस्से में कफ्र्यू नहीं लगा है लेकिन एहतियातन कानून- व्यवस्था बनाये रखने के लिए सीआरपीसी की धारा 144 के तहत प्रतिबंध जारी है। इस बीच, पांच अगस्त से श्रीनगर के ऐतिहासिक जामिया मस्जिद के सभी द्वार नमाजियों के लिए बंद हैं। लोगों को मस्जिद में प्रवेश से रोकने के लिए जामिया मार्केट और इसके बाहर केंद्रीय सशस्त्र अद्र्धसैनिक बल (सीएपीएफ) तैनात किये गये हैं। शहर में दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद हैं।

श्रीनगर में बर्फबारी के कारण ऐतिहासिक लाल चौक समेत कई जगहों पर सुबह सात बजे से करीब तीन घंटों के लिए कुछ दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठानें ही खुली रहीं। लगातार हो रही बर्फबारी के कारण सुबह से ही सडक़ के किनारे रेहरी-पटरी वाले नदारद रहे। पांच अगस्त से ही स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन (एसआरटीसी) की बसों समेत सार्वजनिक परिवहन सडक़ों से गायब हैं। बहुत कम संख्या में निजी वाहन सडक़ों पर चल रहे हैं। बारामूला और बनिहाल के बीच ट्रेन सेवा पांच अगस्त से ही निलंबित है।

भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनल) और अन्य कंपिनयों की प्री-पेड मोबाइल और इंटरनेट सेवाएं पिछले 95 दिनों बंद हैं। दक्षिण कश्मीर के कई अन्य जिलों में आज दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठानें बंद रहे। जम्मू-कश्मीर के गांदेरबल और बडग़ाम जिलों से भी इसी तरह की रिपोर्टें आई हैं, जहां व्यावसायिक और अन्य गतिविधियों पांच अगस्त से बाधित हैं। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.