इशांत को सिराज से मिलेगी कड़ी चुनौती

Samachar Jagat | Saturday, 25 Dec 2021 02:30:26 PM
Ishant will face tough challenge from Siraj

सेंचुरियन। सेंचुरियन में दक्षिण अफ्रीका के .खलिाफ रविवार से होने वाले बॉक्सिग डे टेस्ट के लिए भारतीय एकादश में लोकेश राहुल, मयंक अग्रवाल, विराट कोहली, ऋषभ पंत और जसप्रीत बुमराह का नाम तय है, वहीं चेतेश्वर पुजारा, रविचंद्रन अश्विन और मोहम्मद शमी भी जगह बनाते हुए नज़र आ रहे हैं। लेकिन अन्य तीन नामों का चुनाव करना भारत के लिए बहुत मुश्किल होने जा रहा है।

पिछले साल के बॉक्सिग डे टेस्ट से भारत ने कुल 15 टेस्ट मैच खेले हैं और इन सभी 15 टेस्ट में उन्होंने अंतिम एकादश में पांच गेंदबाज़ों को जगह दी है। हालांकि इन 15 में से 13 टेस्ट मैचों में रवींद्र जाडेजा और वाशिगटन सुंदर खेले हैं, जो कि एक बेहतर बल्लेबाज़ या कहें बल्लेबाज़ी आलराउंडर हैं। इन दोनों में से कोई भी दक्षिण अफ्रीका  जाने वाले दल में शामिल नहीं है, इसलिए भारत के लिए वही टीम संयोजन बिठाना मुश्किल साबित हो सकता है।

हालांकि पिछले साल अश्विन एक बेहतर बल्लेबाज़ के रूप में उभरे हैं। 20 17 से 20 20  तक उनका बल्लेबाज़ी औसत  16.72 था। इस दौरान उनके नाम 39 पारियों में  एक अर्धशतक दर्ज था।

 लेकिन 20 21 में उनमें काफी  सुधार हुआ है। इस दौरान उन्होंने 28.0 8 के बेहतर औसत से रन बनाए हैं, जिसमें इंग्लैंड के .खलिाफ चेन्नई में एक शतक के अलावा कई उपयोगी पारियां भी शामिल हैं।

सिडनी में उन्होंने मैच बचाने के लिए 190 मिनट तक बल्लेबाज़ी की थी, वहीं विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में भी उन्होंने 27 गेंदों में 22 रन की महत्वपूर्ण पारी खेली थी। न्यूज़ीलैंड के .खलिाफè हालिया सीरीज़ के कानपुर टेस्ट में भी उन्होंने दोनों पारियों में 30 से अधिक रन बनाए थे।

अश्विन के साथ भारत शार्दुल ठाकुर को खिलाता है, तो उनके पास नंबर आठ तक बल्लेबाज़ भी हो जाएंगे और पांच गेंदबाज़ों का संयोजन भी बना रहेगा। शार्दुल के नाम चार टेस्ट में तीन अर्धशतक हैं।

रहाणे, विहारी और अय्यर हनुमा विहारी के विदेश में रिकॉर्ड और श्रेयस अय्यर के शानदार डेब्यू के बाद मध्य क्रम में भारत के लिए चयन चिताएं बढè गई हैं। हालांकि यह एक मीठा सरदर्द है, जिसे भारत हमेशा से चाहता रहा है। अब उनके पास मध्यक्रम में भी चेतेश्वर पुजारा और अजिक्या रहाणे के अलावा भी बल्लेबाज़ी के विकल्प हैं।

पिछले साल मेलबॉर्न में शतक जमाने के बाद रहाणे ने 12 टेस्ट मैचों में सिफर्è 19.57 की औसत से रन बनाए हैं। उन्होंने इंग्लैंड के .खलिाफè लॉड्र्स में 61 रन की शानदार पारी खेली थी, लेकिन उसके बाद उनका स्कोर सिफर्è 18, 10 , 14, 0 , 35 और 4 का रहा है।
भारत के पिछले दक्षिण अफ्रीका  दौरे पर भी रहाणे को शुरुआती दो टेस्ट में खेलने के मौके  नहीं मिले थे, जबकि तब उनका फार्म भी आज जैसा नहीं था। अगर कोहली और नया कोचिग स्टाफ कठिन निर्णय लेने की क्षमता रखता है, तो भारत नंबर पांच पर विहारी या अय्यर में से किसी एक को जगह दे सकता है। इसके बाद नंबर छह पर ऋषभ पंत आएंगे और फिर पांच गेंदबाज़ों को भी खिलाने का विकल्प खुल सकता है। एक विकल्प यह भी है कि भारत कम आक्रामक रू.ख अपनाते हुए विहारी और अय्यर दोनों को खिलाए और सिफर्è चार गेंदबाजों के साथ ही उतरे।

न्यूज़ीलैंड के .खलिाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल हारने के बाद भारत ने इंग्लैंड दौरे पर अपनी रणनीति में परिवर्तन लाया और चार तेज़ गेंदबाज़ों और जडेजा के साथ उतरे। इस वज़ह से अश्विन को लगातार चार टेस्ट मैचों में बाहर बैठना पड़ा।दक्षिण अफ्रीका  की तेज़ और उछाल भरी पिचों पर भी इंग्लैंड की तरह भारत चार तेज़ गेंदबाज़ों के साथ उतर सकता है। इसमें जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी का नाम तय है, वहीं बल्लेबाज़ी क्षमताओं के कारण शार्दुल ठाकुर भी जगह बनाते हुए दिख रहे हैं। ऐसे में चौथे तेज़ गेंदबाज़ी विकल्प के लिए सीधी लड़ाई इशांत शर्मा और मोहम्मद सिराज के बीच है।

2०18 से इशांत शर्मा ने 26 टेस्ट मैचों में 21.37 की औसत से 85 विकेट लिए हैं, लेकिन 2०21 उनके लिए उतना कुछ .खास नहीं गया है। इस साल उनके नाम आठ टेस्ट में 32.71 की औसत से सिफर्è 14 विकेट ही दर्ज हैं। इंग्लैंड के .खलिाफè लॉड्र्स में उन्होंने पांच विकेट ज़रूर लिए और भारत को एक महत्वपूर्ण टेस्ट जीत दिलाई, लेकिन हेडिग्ले के अगले मैच में ही वह रंग में नहीं दिखे और उन्हें एक भी विकेट नहीं मिला। न्यूज़ीलैंड के .खलिाफ कानपुर टेस्ट में भी उन्हें एक भी विकेट नहीं मिला।

हालांकि इससे उनके अनुभव को .खारिज नहीं किया जा सकता और भारतीय टीम प्रबंधन नेट््स में उन पर कèरीबी नज़र रख रही होगी।

 अगर वह  में लय में नज़र आते हैं, तो उन्हें अंतिम एकादश में भी मौका  दिया जा सकता है। उन्हें इसके लिए मोहम्मद सिराज से कठिन चुनौती मिलेगी, जिन्होंने 10  टेस्ट मैचों के अपने छोटे से करियर में ही अपना स्थान टीम इंडिया में लगभग पक्का कर लिया है। मुंबई में न्यूज़ीलैंड के .खलिाफ दूसरे टेस्ट में नई गेंद से तीन विकेट लेकर उन्होंने अपने स्थान को और मजबूत कर दिया है। वह एक आक्रामक गेंदबाज़ हैं, जो अपनी सटीक लाइन और लेंथ से किसी भी पिच पर गलतियां करने को मजबूर कर देते हैं।

ऐसे में यह टीम प्रबंधन को एक कठिन निर्णय लेना होगा कि वह इशांत के अनुभव या सिराज की आक्रमकता में किसको अधिक महत्व देती है? 



 
loading...

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.