स्पिन के .खिलाफ संघर्ष करते कोहली को देख बाप ने जताई चिता

Samachar Jagat | Thursday, 05 May 2022 02:00:55 PM
Seeing Kohli struggling against spin, Bishop expressed concern

मुम्बई। विराट कोहली को लगातार स्पिन गेंदबाज़ों के .खलिाफ जूझता देख वेस्ट इंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज इयान बिशप ने चिता व्यक्त की है। इस सीज़न विराट कोहली के बल्ले से सिफर्è एक अर्धशतक निकला है। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट भी महज़ 111.09 का ही रहा है, जो कि इस सीज़न में कम से कम 150 रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों में तीसरा सबसे कम है।10वें ओवर में मोईन अली की ऑफè ब्रेक पर लंबी ड्राइव लगाने गए कोहली 3० के निजी स्कोर पर बोल्ड हो गए। यह बिल्कुल पिछले साल चेन्नई टेस्ट के दौरान भी कोहली मोईन अली की गेंद पर कुछ इसी अंदाज़ में आउट हुए थे।


कोहली ने बुधवार को कुल 16 डॉट गेंदें खेली। कोहली के पवेलियन लौटने के पिछले ओवर में ही उनके गèलत अनुमान के चलते ग्लेन मैक्सवेल रन आउट हो गए। हालांकि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू अनकैप्ड खिलाड़यिों रजत पाटीदार और महिपाल लोमरोर की उपयोगी पारियों की बदौलत 173 का स्कोर बनाने में सफल हो गई। ईएसपीएनक्रिकइंफ टाइम आउट पर इयन बिशप ने कहा, 10 से 15 गेंदों तक वह 100 के स्ट्राइक रेट या उससे भी नीचे थे। साफ तौर पर इंटेंट की कमी झलक रही थी।'’तेज़ गेंदबाज़ के .खलिाफè एकस्ट्रा कवर के ऊपर से छक्का लगाने के बाद उनका स्ट्राइक रेट 100 के ऊपर आ गया, लेकिन इसके बाद एक बार फिर वह पीछे चले गए।


बिशप ने आगे कहा, यह कुछ ऐसा है जो हम काफ समय से विराट के साथ होता देख रहे हैं, यह सिफर्è इस सीज़न की ही बात नहीं है। पिछले सीज़न में भी बल्कि कभी-कभी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी। वह फèरि धीमे पड़ जाएंगे, जिसकी मुझे काफ चिता है। रॉस्टन चेज़ ने फèरवरी में घरेलू सीरीज़ में उन्हें आउट किया, हमने उन्हें टेस्ट मैचों में ऑफè स्पिनर्स की गेंदों पर आउट होते देखा है। इसलिए कोहली का मुरीद होने के नाते मुझे काफèी चिता है। जब कोहली अपने सर्वश्रेष्ठ पर होते हैं, तब मैं क्रिकेट देखा हूं, लिहाज़ा यह आलोचना नहीं है बल्कि अवलोकन है कि वह हर तरह के गेंदबाज़ की गेंदों पर आउट हो रहे हैं और वह उस तेज़ी के साथ खेल भी नहीं रहे हैं।


कोहली की धीमी शुरुआत के बावजूद आरसीबी ने इस सीज़न में अपनी सबसे अच्छी शुरुआतों में से एक शुरुआत की। पावरप्ले में उन्होंने बिना किसी नुकसान पर 57 रन बना लिए थे। हालांकि वह इस सीज़न पावरप्ले के दौरान सबसे कम स्कोरिग रेट (6.58) से रन बनाने वाली टीम थे।


बिशप ने कहा, अगर आप हर गेंद में एक रन के स्ट्राइक रेट के हिसाब से बल्लेबाज़ी कर रहे हैं तो आपको पारी में काफèी डीप तक बल्लेबाज़ी करनी चाहिए और वह अपनी पारी को डीप भी नहीं ले जा पा रहे हैं। यह गेंदें आपके पास वापस भी नहीं आतीं। भले ही आरसीबी जीत गई, लेकिन स्कोर बोर्ड पर खड़ा गया उनका टोटल एक मैच विनिग टोटल नहीं था।


एक तरफ जहां बिशप ने कोहली द्बारा गेंदों को मिस किए जाने पर चिता व्यक्त की तो वहीं डैनियल वेटोरी ने मोईन अली द्बारा टेस्ट मैच के अंदाज़ में आउट किए जाने की प्रशंसा की। वेटोरी ने कहा, हरभजन सिह और अश्विन उन्हें तेज़ गेंदें फेंकने की कोशिश किया करते थे और वह उनकी गेंदों पर सिगल निकालने की जद्दोजहद करते दिखाई देते थे। वह दोनों पर हावी होने का प्रयास नहीं करते थे, लेकिन मोईन ऑफè स्टंप के बाहर से गेंद को स्पिन करा रहे थे। मोईन और उनके गेंदबाज़ी के अंदाज़ को इसका बहुत बड़ा श्रेय जाता है, इस तरह की गेंदों पर उन्हें संघर्ष करते देखा गया है। यह बहुत अच्छी गेंदबाज़ी थी जिसे कोहली के सिफर् सिगल निकालने के प्रयास ने और भी मदद की।


मोईन ने दिखाया कि मिड-सीज़न में चेन्नई ने क्या मिस किया है। उन्हें टखने में चोट लगने के बाद कुछ मुकèाबलों में बाहर बैठना पड़ा। मोईन ने चार ओवर में 28 रन देकर दो विकेट लिए। 14वें ओवर में कोटे का पूरे ओवर डालने के बाद तक आरसीबी अपनी पारी के पुनर्निमाण में लगी हुई थी।


वेटोरी ने कहा, हमें यह मानना होगा कि मोईन ने वाकèई अच्छी गेंदबाज़ी की। इस बात का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक ऑफè स्पिनर ने दाएं हाथ के बल्लेबाज़ पर इतना दबाव डाल दिया कि वह आक्रामक शैली में खेलने के बजाय सिगल निकालने के प्रयास करते रहे। हालांकि बात इंटेंट की भी है, कभी ऐसा नहीं लगा कि कोहली सिगल के अलावा और किसी खोज में लगे हुए हैं। जब कोहली अपनी लय में होते हैं तो वह ऑफè स्पिर्स की गेंदों पर सीधा प्रहार करते हैं। एक ओवर पहले मैक्सवेल के रन आउट होने ने भी उनके इंटेंट को प्रभावित किया होगा, वह यह सोच रहे होंगे कि उन्हें देर तक बल्लेबाज़ी करनी है। 



 
loading...


Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.