Success Story Jemimah Rodrigues : तीन साल की उम्र में थामा बल्ला, क्रिकेट के साथ हॉकी में दिखाए तेवर, अब लंदन में द हंड्रेड लीग में मचा रही हैं हंगामा, जानें जेमिमाह रोड्रिग्स के बारे में, जिन्होंने दो मैच खेले और दोनों में ही जड़ दी फिफ्टी

Samachar Jagat | Wednesday, 28 Jul 2021 01:10:40 PM
Success Story Jemimah Rodrigues: At the age of three, he took the bat, showed his attitude in hockey with cricket, is now creating a ruckus in The Hundred League in London, know about Jemimah Rodrigues, who played two matches and rooted in both fifty

स्पोर्ट्स डेस्क। लंदन में आयोजित की जा रही 100 गेंदों की अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट लीग द हंड्रेड की वुमेंस लीग में कई भारतीय महिला खिलाड़ी शिरकत कर रही हैं। इनमें इस समय सबसे ज्यादा चर्चित नाम भारत की स्टार खिलाड़ी जेमिमाह रोड्रिग्ज का है। रोड्रिग्स अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से लंदन में क्रिकेट फैंस का जमकर मनोरंजन कर रही हैं। द हंड्रेड लीग में सुपर चार्जर टीम की ओर से खेल रही जेमिमाह लीग में अब तक सर्वाधिक रन, सर्वाधिक फिफ्टी, सर्वाधिक चौके, सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर के साथ ही सर्वाधिक स्टाइक रेट हासिल किए हुए हैं। जेमिमाह ने दो मैच खेले हैं और दोनों ही मैचों में तेजतर्रार अर्धशतक जड़ा है। पहले ही मैच में 92 रनों की तूफानी पारी खेलकर जेमिमाह ने सुपरचार्जर को चैंपियन बनाया। वहीं दूसरे मैच में 60 रनों की पारी के साथ टीम को मैच जितवाया है। दोनों ही मैचों में जेमिमाह प्लेयर आफ द मैच रही हैं। जेमिमाह हालिया प्रदर्शन से रातों रात इंटरनेशनल क्रिकेट में चहेती क्रिकेटर बन गई हैं। 

मुंबई में 5 सितंबर 2000 में जन्मी जेमिमाह 20 साल की हैं। जेमिमाह के बारे में कहा जाता है कि वे द हंड्रेड लीग में सबसे मजाकिया क्रिकेटरों में भी शामिल हैं। टीम के सदस्यों का मनोरंजन वे खूब करती हैं। जेमिमाह के बारे में एक और खास बात ये है कि कि उन्होंने बचपन से ही हॉकी और क्रिकेट दोनों में हाथ आजमाए हैं। वहीं अंडर-17 महाराष्ट्र हॉकी टीम की सदस्य भी रही हैं। कोच के रूप में उनको सबसे बेहतर क्रिकेट प्रशिक्षक उनके पिता ईवान रोड्रिग्स का साथ उन्हें मिला। जेमिमाह ने तीन साल की उम्र में पहली बार क्रिकेटर का बैट अपने हाथों में लिया था। 

उनके पिता ही उनके स्कूल में कोच के रूप में कार्यरत थे। पिता स्कूल में भी उन्हें अन्य बच्चों के साथ क्रिकेट की बारिकिया सिखाते थे। वहीं उनके बड़े भाई इनोक रोड्रिग्स ने उन्होंने गेंदबाजी करना सीखा। इस दौरान जेमिमाह क्रिकेट के साथ ही हॉकी में भी रमी हुई थी। जेमिमाह के शानदार खेल के कारण अंडर-17 के बाद अंडर-19 महाराष्ट्र हॉकी टीम में भी उनका चयन हो गया। हालांकि अब उन्होंने क्रिकेट को ही प्राथमिकता देना शुरू कर दिया। 

साढ़े 12 साल की उम्र में जेमिमाह ने भारतीय क्रिकेट टीम में अंडर-19 में जगह बनाई। उनके पिता ही उनके पहले कोच और क्रिकेट में उनके हीरो रहे। जेमिमाह स्मृति मंधाना के बाद 50 ओवर के क्रिकेट मैच में दोहरा शतक लगाने वाली दूसरी भारतीय महिला क्रिकेटर हैं। 12 मार्च 2018 को 17 साल की उम्र में जेमिमाह ने वनडे में आस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना डेब्यू मुकाबला खेला। वहीं इससे पहले 13 फरवरी 2018 को साउथ अफ्रीका के खिलाफ ट्वेंटी-20 इंटरनेशनल मैचों में पदार्पण किया। हाल ही में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में उन्होंने अपना टेस्ट डेब्यू मैच खेला। 

टीम इंडिाय में जेमी के नाम से पुकारी जाने वाली जेमिमाह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में एक के बाद एक बुलंदिया छू रही हैं वो भी सिर्फ 20 की उम्र में। द हंड्रेड लीग में इस समय वुमेंस क्रिकेट में जेमिमाह सबसे बड़ा नाम हैं। उनका लगाातर अच्छा प्रदर्शन उन्हें लीग की स्टार खिलाड़ी बना सकता है। इसके लिए जेमिमाह लगातार अपने प्रदर्शन को निखार रही हैं। 

 

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.