आखिर क्यों ऑस्ट्रेलिया से पहला टेस्ट जीतने से खुश नहीं थे इशांत शर्मा, विराट ने खोला राज

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Dec 2018 11:59:50 AM
Virat Kohli said ishant sharma was unhappy after winning 1st test match

खेल डेस्क। एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट मैच में जहां भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर चार मैचों की सीरीज का विजयी आगाज कर लिया है। वहीं अब भारतीय टीम की नजरें दूसरे टेस्ट पर जीत दर्ज करने पर टीकी होगी, जो 12 दिसंबर से पर्थ में खेला जाएगा। हालांकि पहले टेस्ट मैच में जीत दर्ज कर आत्मविश्वास से भरी भारतीय टीम इस मैच में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद कर रही होगी। फिल्हाल भारत ने पहला टेस्ट मैच की जीत के बाद कप्तान विराट ने इशांत शर्मा को लेकर एक राज खोला है। इस जीत से जहां सभी खुश थे वहीं उन्होंने कहा है कि इशांत शर्मा इस जीत से खुश नहीं थे।

राजस्थान में विधायक बनी कृष्णा पूनिया

मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट में जीत से जहां टीम खुशी मना रही थी वहीं तेका गेंदबाज इशांत शर्मा व्यक्तिगत रूप से अपने प्रदर्शन को लेकर बहुत दुखी थे। भारत ने सोमवार को एडिलेड ओवल में पहला टेस्ट जीतने के साथ चार टेस्टों की सीरीका में 1-0 की बढ़त बनाई थी। लेकिन ऑस्ट्रेलिया में पिछली कई सीरीज का अनुभव रखने वाले तेज गेंदबाज इशांत का प्रदर्शन प्रभावशाली नहीं रहा और उन्होंने मैच में कुल 95 रन देकर तीन विकेट निकाले। हालांकि अहम मौके पर नो बॉल ने जहां भारतीय टीम को कुछ मुश्किल में डाल दिया तो वहीं इशांत को भी परेशान किया। विराट ने मैच के बाद कहा कि इशांत ने अहम मौके पर जो नो बॉल की जबकि वह खुद जानते थे कि एक गलती पूरा मैच बदल सकती थी और इसलिये वह काफी परेशान थे। इशांत इस बात से सबसे अधिक दुखी हैं। हम सब जीत का जश्न मना रहे थे लेकिन वह खुद से बहुत नाराज थे।

दूसरे टेस्ट से पहले पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान पोंटिंग ने जताई ये उम्मीद

कप्तान ने कहा है कि हमने जब इशांत से इस बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि वह टीम के अनुभवी खिलाडिय़ों में हैं और ऐसे में जब टीम मुश्किल स्थिति में हो तो मैं इस तरह नो बॉल नहीं कर सकता हूं। सीरीज में इस तरह की चीजें पूरे मैच को प्रभावित कर सकती हैं। दरअसल ऑस्ट्रेलिया के लक्ष्य का पीछा करने के दौरान इशांत के ओवर में उन्होंने बेहतरीन इन स्विंगर डाली जो आरोन फिंच के पैड पर लगी लेकिन रिव्यू में पता चला कि यह नो बॉल है। इसके बाद इशांत ने 51वें ओवर में शॉन मार्श को एक और नो बॉल डाली जबकि उस मोड़ पर मैच काफी पेचीदा स्थिति में पहुंच गया था। इस गेंद को भी अंपायर कुमार धर्मसेना ने नो बॉल करार दिया। इसके ठीक बाद इशांत की एक और गेंद नो बॉल हो गई जो उन्होंने नाथन लियोन को डाली। यह गेंद डालते ही अंपायर धर्मसेना ने नो बॉल का इशारा कर दिया था।

डीआरएस प्रणाली को ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने कहा निराशाजनक

इशांत की यह गेंद लियोन के फ्रंट पैड से टकराई थी और इसकी दिशा लेग स्टम्प से टकराने की थी। यदि यह नो बॉल नहीं होती तो मैच उसी समय समाप्त हो जाता और भारत की जीत का अंतर कहीं बड़ा होता। वहीं चैनल-7 ने इशांत के इससे पिछले ओवर में भी दो नो बॉल को रिप्ले में दिखाया जिसे अंपायर ने नजरअंदाज कर दिया था। इसे लेकर साफ नहीं हो सका कि थर्ड अंपायर क्रिस गैफेनी ने मैदानी अंपायर धर्मसेना को किसी तरह के निर्देश दिए थे कि नहीं। हालांकि लगातार नो बॉल के निराशाजनक प्रदर्शन के बावजूद विराट ने उम्मीद जताई है कि पर्थ टेस्ट में इशांत बेहतर प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा है कि यह कोई स्कूल टीम नहीं है। सभी खिलाड़ी अपने खेल को जानते हैं और अपनी गलतियों को सुधार सकते हैं। जब तक हमारे खिलाड़यिों को उनकी गलतियां पता हैं हम उन्हें ठीक कर सकते हैं। विराट ने कहा है कि मुझे पता है कि इशांत खुद ही इस बात को लेकर सतर्क होंगे कि आगे ऐसा न हो, जैसे हमने भी दूसरी पारी में अपनी बल्लेबाजी में सुधार कर लिया था। खिलाड़ी जल्द सीख कर खेल सुधारना और अपनी जिम्मेदारी निभाना चाहते हैं।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.