BREAKING NEWS
Home

Health News

राजस्थान में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए आगामी एक मई से चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्बारा मेरा गाँव-स्वस्थ गाँव अभियान संचालित किया जाएगा।
आजकल छोटे से छोटे बच्चे के पास भी स्मार्टफोन होता है। यहां तक कि तीन-चार साल के बच्चे भी स्मार्टफोन में गेम खेलना और कार्टून देखना पसदं करते है। वहीं स्मार्टफोन की लुभावनी एप्स है जो किसी भी इंसान को दूर नहीं रहने देती।
भोपाल। मध्यप्रदेश के 43 जिलों के 404 चिन्हित गांव में मिशन इंद्रधनुष के अंतर्गत 23 से 27 अप्रैल तक टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। इसमें जीरो से दो वर्ष तक उम्र के 3300 बच्चों और 1200 गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण का लक्ष्य है। केन्द्र सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल मिशन इंद्रधनुष के तहत गांव में टीकाकरण का यह कार्यक्रम अप्रैल के साथ मई और जून में भी 23 से 27 तारीख के मध्य होगा। 
अगर आप विटामिन 'डी' की कमी से गुजर रहे हैं तो सावधान हो जाएं ! एक नए अध्ययन से पता चला है कि इस विटामिन की कमी से मधुमेह की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया सैनडियागो
वैज्ञानिकों ने कैंसर (मल्टीपल माइलोमा) के लिए प्लास्टिक चिप वाला सस्ता और भरोसेमंद रक्त परीक्षण इजाद किया है जो दर्द वाले बोन बायोप्सी को अतीत की चीज बना सकता है। अमेरिका के कंसास विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि
नई दिल्ली। विश्व टीकाकरण सप्ताह के पहले डब्ल्यूएचओ ने सदस्य देशों से टीकाकरण को राष्ट्रीय प्राथमिकता बनाने और इसके कार्यक्रमों के लिए निरंतर तथा उच्च स्तर की राजनीतिक प्रतिबद्धता दिखाने को कहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की दक्षिण-पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशक पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा कि जान को खतरा और निशक्त बनाने वाली बीमारी के खिलाफ लोगों, समुदाय और देश की रक्षा की दिशा में टीकाकरण सबसे प्रभावशाली जरिया है ।
 वैज्ञानिकों का कहना है कि मस्तिष्क का ऐसा स्कैन जो यह दिखाता है कि मस्तिष्क के क्षेत्र किस प्रकार परस्पर प्रभाव डालते हैं ,से माइग्रेन, तनाव, बायपोलर विकार सहित मस्तिष्क से संबंधित कई अन्य बीमारियों का पता लगाने में मदद मिल सकती है।
इंदौर। देश में उच्चस्तरीय स्वास्थ्य सेवाओं में ’’क्षेत्रीय असंतुलन’’ समाप्त करने के लिये 73 सरकारी मेडिकल कॉलेजों से जुड़े अस्पतालों में सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक खोले जायेंगे। 
नई दिल्ली। भारतीय वैज्ञानिकों ने डेंगू के इलाज के लिए एक आयुर्वेदिक दवाई विकसित की है। इन वैज्ञानिकों का दावा है कि इस बीमारी से संबंधित अपने तरह की यह पहली दवाई है। अगले साल से यह दवाई बाजार में मरीजों के लिए उपलब्ध हो जाएगी। आयुष मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली स्वायत्त इकाई केंद्रीय आयुर्वेदीय विज्ञान अनुसंधान परिषद ( सीसीआरएएस ) और कर्नाटक के बेलगांव के क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र आईसीएमआर ने पायलट अध्ययन कर लिया है
मेलबर्न। अगर आप कॉफी और चाय पीने के शौकीन हैं तो आपके दिल के लिए यह एक बेहद अच्छी खबर है क्योंकि एक नए अध्ययन में पाया गया है कि दिल के असामान्य तरीके से धड़कने, घबराहट और बेचैनी आदि से आपको यह शौक निजात दिला सकता है। अट्रियल या वेंट्रीकुलर अर्थमेसिज ( दिल की धड़कन तेज़ और असामान्य होना ) के मरीजों को कैफीनयुक्त पेय पदार्थ के सेवन के लिए मना किया जाता है

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.