BREAKING NEWS
Hindi News

Jain-dharam News

गणिनी आर्यिका विशुद्घमति माताजी चातुर्मास समिति की ओर से तलवंडी जैन मंदिर स्थित विाुद्घ सभागार में आयोजित 15 दिवसीय णमोकार मंत्र जाप्य अनुष्ठान का समापन बुधवार को होगा। 
गायत्री महारानी फार्म के श्री दिगम्बर जैन मन्दिर  में गणिनी आर्यिका श्री विमल प्रभा माता जी ने कहा कि आत्मा राजा है लेकिन इन्द्रिय का गुलाम बना हुआ है।
गायत्री महारानी फार्म के श्री दिगम्बर जैन मन्दिर  में आर्यिका श्री  विमल प्रभा माता जी ने कहा कि धर्म को धारण करने वाला व्यक्ति ही परम पद को प्राप्त करता है। जिसके पास धर्म नहीं है वह संसार का सबसे दरिद्र प्राणी है। 
मुनि पुंगव श्री सुधासागर जी महाराज ने कहा कि सज्जन व्यक्ति मन, वचन और कर्म से एक ही विचार से कार्य के प्रति सजग रहते हैं। सच्चरित्रता के लिए निवृयसनता अत्यंत आवश्यक है।
संत शिरोमणि आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि पुंगव श्री सुधा सागर जी महाराज ने कहा कि संसार का नाम है संगठन और परमार्थ का नाम है विघटन।
आचार्य श्री ज्ञानसागर जी महाराज ने कहा कि राजनीति में रहकर भी धर्म की डोर से जुड़े रह सकते हैं। साथ ही आज के दौर मेें मजबूत लोकतंत्र में परिवार, व्यापार व समाज के सर्वांगीण विकास व संरक्षण के लिए राजनीति में दखल आवश्यक हो गया है।
संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि पुंगव श्री सुधा सागर जी महाराज ने कहा कि जिसके हृदय में दया नहीं वह दानी कभी नहीं हो सकता।
श्री दिगम्बर जैन पदयात्रा संघ जयपुर के तत्वावधान में हर वर्ष की भांति 4 अक्टूबर को जयपुर की भट्टारकजी की नसियां जी से रवाना हुई पदयात्रा मंगलवार को जुलूस के रूप में बैंड बाजों के साथ श्री महावीरजी पहुंची।
गुरुदेव मुनि पुगंव सुधासागरजी महाराज के सानिध्य में सुदर्शनोदय तीर्थ आवा में भारतवर्षीय  दिगम्बर जैन महिला महा समिति के 25वें रजत अधिवेशन के अवसर पर समिति की संरक्षक व जैन गौरव अशोक पाटनी
जीवन में ऊंचाइयों पर पहुंचना कठिन नहीं है लेकिन ऊंचाई पर बने रहना कठिन है। ये उद्गार आवा तीर्थ में महिला महासमिति के राष्ट्रीय अधिवेशन को संबोधित करते हुए मुनि पुगंव श्री सुधासागरजी महाराज ने व्यक्त किए। 

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.