BREAKING NEWS
Hindi News

Jyotish News

The ‘Jyotish’ category of Samachar Jagat web portal; it offers various news pieces related to all astrological content in Hindi. This news category generates news like Aaj Ka Rashifal, Today Horoscope, Rashifal 2018 and Today Rashifal in Hindi language. This category also offers various astrological topics as followed; Vastu tips, palm reading, astrological measures, money generating astro methods, fengshui.

आज सूर्य कर्क राशि में रहेगा और चंद्रमा आज कन्या राशि में रहेगा, इन दोनों को आज हस्त नक्षत्र का साथ मिलेगा। इस परिवर्तन से किसी राशि को लाभ होगा तो किसी को हानि उठानी पड़ सकती है।
धर्म डेस्क। नाग पंचमी को सांपों की पूजा की जाती है, वहीं जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष है उनके लिए नागपंचमी का बहुत महत्व होता है। अगर इस दिन राशि अनुसार कुछ काम किए जाएं तो इससे कालसर्प दोष का प्रभाव कम होता है। इसी के साथ इस दिन ये उपाय करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है
उज्जैन। मध्यप्रदेश के उज्जैन में भगवान नागचन्द्रेश्वर के मंदिर का पट 15 अगस्त को खुलेगा। वर्ष में एक दिन 24 घंटे के लिए खुलने वाला इस मंदिर का पट 14 अगस्त की मध्य रात्रि से खुलेगा। हिंदू धर्मावंलियों में हालांकि कैलाश मानसरोवर, बाबा अमरनाथ, बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमनौत्री सहित अन्य मंदिर के पट एक दिन से अधिक समय के खोले जाते है
धर्म डेस्क। नाग पंचमी का त्योहार श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। इस दिन नागों की पूजा की जाती है और उन्हें दूध पिलाया जाता है। इस बार नागपंचमी 15 अगस्त को है। पंचमी तिथि 15 अगस्त को सुबह 03ः27 बजे शुरू प्रारंभ होगी और 16 अगस्त को सुबह 01ः51 बजे खत्म होगी।
धर्म डेस्क। ब्रह्माजी ने सृष्टि की उत्पत्ति की है, विष्णु जी सृष्टि का पालन करते हैं और शिवजी संहारकर्ता हैं। इन तीनों देवों के बिना सृष्टि का चलना असंभव है। इसी बात को लेकर एक बार ब्रह्माजी और भगवान विष्णु में विवाद छिड़ गया कि दोनों में श्रेष्ठ कौन है। आइए जानते हैं इस रोचक कथा के बारे में......
आज सूर्य कर्क राशि में रहेगा और चंद्रमा आज सिंह राशि को त्यागकर कन्या राशि में प्रवेश करेगा, इन दोनों को आज उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र का साथ मिलेगा। इस परिवर्तन से किसी राशि को लाभ होगा तो किसी को हानि उठानी पड़ सकती है। आइए जानते हैं आज के राशिफल के बारे में....
धर्म डेस्क। भगवान शिव को नीलकंठ कहा जाता है, आपको बता दें कि नीलकंठ नाम का एक पक्षी भी होता है। इस पक्षी को भगवान शिव ( नीलकंठ ) का प्रतीक माना जाता है। उड़ते हुए नीलकंठ पक्षी का दर्शन करना सौभाग्य का सूचक माना जाता है। सावन का महीना भगवान शिव की भक्ति का महीना होता है
इलाहाबाद। पूरे सावन के महीने में ही भोलेनाथ के जयकारों की गूंज से वातावरण गूंजायमान रहता है लेकिन सावन के सोमवार को अधिकतर सभी भक्त मंदिर में जाकर भोलेनाथ की पूजा करते हैं। जहां लड़कियां योग्य और मनचाहा वर पाने के लिए ये व्रत करती हैं वहीं विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए सावन के सोमवार का व्रत करती हैं।
धर्म डेस्क। भगवान शिव ने मां गंगा को अपनी जटाआें में समेट रखा है और उन्हें गंगा जल बहुत प्रिय है। इसी कारण अगर भगवान शिव का गंगाजल से अभिषेक किया जाए तो वे बहुत प्रसन्न होते है। सावन माह में कांवड़िए दूर-दूर से गंगाजल भरकर अपनी कांवड़ में लाते हैं और भोलेनाथ का अभिषेक करते हैं।
जयपुर। श्रावण मास का तीसरा सोमवार आज है, वैसे तो पूरे सावन माह में ही भगवान शिव की पूजा-आराधना की जाती है लेकिन सावन का सोमवार विशेष महत्व रखता है।


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.