BREAKING

HomeReligion
पौराणिक कहानियों और दंतकथाओं के अनुसार एक कहानी ऐसी है जो काल चक्र को भलीभांति प्रकट करती हैं। सतयुग में महाराज रैवतक पृथ्वी के सम्राट हुआ करते थे।
मध्यप्रदेश के उज्जैन में शनिश्चरी अमावस्या के मौके पर क्षिप्रा नदी के त्रिवेणी शनि मंदिर पर हजारों श्रद्धालुओं ने स्नान कर शनिदेव के दर्शन कर पूजा-अर्चना की।...
हम सभी यह जानते है कि सोने की लंका रावण की थी। जिसको रावण ने अपने भाई कुबेर से छिना था। लेकिन यह पूरा सच नहीं हैं।
गुजरात भर में आज अषाढी बीज के मौके पर रथ यात्राओं की धूम के बीच यहां जमालपुर स्थित ऐतिहासिक जगन्नाथ मंदिर की 140वीं वार्षिक रथ यात्रा कड़ी सुरक्षा के बीच...
हर कोई अपने लिए ऐसे जीवनसाथी की इच्छा रखता है जो उसके पंसद का हो। लेकिन अगर आपको भी अपने पंसद का साथी चाहिए। तो आप उज्जैन पहुंच जाए।
ओडिशा के जगन्नाथपुरी की भव्य रथयात्रा की तर्ज पर मध्यप्रदेश के पवित्र शहर पन्ना में हर साल आयोजित होने वाली रथयात्रा आज पूरी धूमधाम से निकाली जाएगी।पन्ना की...
सिंदूर का भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान हैं। जहां महिलाएं सिंदूर को पति की लम्बी उम्र से जोडक़र देखती हैं। वही सिंदूर का उपयोग कई जगह किया जा सकता है।
आज की युवा पीढ़ी अपनी आधुनिकता की दौड़ में पुराने रीति-रिवाज और परम्पराओं को भूलती जा रही हैं। जो कि ना केवल हमारी परम्पराऐं है बल्कि एक विश्वास है जो एक पीढ़ी...
रामायण के प्रमुख पात्र रावण की पत्नी थी मंदोदरी, उसने हमेशा रावण को सन्मार्ग पर चलने की सीख दी। अपने पतिव्रत धर्म का पालन मंदोदरी ने बहुत ही अच्छे तरीके से किया...
जैसे -जैसे समय बदला वैसे -वैसे इंसान का रहन-सहन, उसकी दिनचर्या में भी परिवर्तन हुआ। सतयुग से लेकर कलयुग तक बहुत सी ऐसी चीजें हैं जिनमें बहुत अंतर आया है

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.