BREAKING NEWS
Home

Zara-hat-ke News

सूरज के करीब पहुंचने वाला पहला मिशन, अंतरिक्ष एजेंसी नासा का पार्कर सोलर प्रोब इस साल जुलाई में करीब 10 लाख लोगों के नाम वहां तक ले जाएगा। सात साल के अपने मिशन के दौरान यह सूर्य के वातावरण से 24 बार होकर गुजरेगा।
वाशिंगटन। वैज्ञानिकों ने एक ऐसी स्वचालित रोबोटिक प्रणाली विकसित की है जो छोटे मानवीय अंगों को तेजी से विकसित कर सकती है। ऐसे अंगों का इस्तेमाल चिकित्सा शोध और दवाओं के परीक्षण के लिए किया जा सकता है। बायोमेडिकल शोध के लिए कोशिकाओं को विकसित करने का परंपरागत तरीका नियंत्रित परिस्थितियों में कोशिकाओं को सपाट और दो आयामी चादर के रूप में विकसित करना है। 
खरगोन। पुरातत्व विभाग ने विश्व संग्रहालय दिवस के अवसर पर मध्यप्रदेश के खरगोन जिले के महेश्वर के देवी अहिल्या होल्कर संग्रहालय में दुर्लभ सिक्कों और मूर्तियों के छायाचित्रों की प्रदर्शनी लगाई गई। संग्रहालय अधिकारी सुल्तान सिंह ने बताया कि सिक्कों की कहानी के शीर्षक पर प्रदर्शनी प्रदेश में पहली बार ही आयोजित की गई है।
वाशिंगटन। वैज्ञानिकों ने एक ऐसा थ्रीडी - प्रिंटेट स्मार्ट जेल तैयार किया है जो पानी के भीतर चल सकता है, चीजों को थाम सकता है और दूसरी जगहों पर ले जा सकता है। इस जेल से आगे ऐसे रॉबोट का विकास किया जा सकता है जो ऑक्टोपस जैसे समुद्री जीवों की नकल कर सकते हैं।
लखनऊ। दृष्टि बाधित यात्रियों की सुविधा के लिए उत्तर मघ्य रेलवे ने एक उपयोगी पहल की है । ट्रेन के डिब्बों और सीटों पर ब्रेल लिपि में संकेतक लगाए गए हैं, जिससे ऐसे यात्री बिना किसी की मदद के अपनी सीट तक पहुंच पाएंगे। उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) के कुल 1452 यात्री डिब्बों में से अब तक 552 डिब्बों में ब्रेल संकेतक लगा दिए गए हैं और 100 अन्य डिब्बों में ये संकेतक लगाने की प्रक्रिया चल रही है। शेष 800 डिब्बों में भी निकट भविष्य में यह सुविधा प्रदान कर दी जाएगी। 
इंटरनेट डेस्क। अगर आपको किसी ऐसी जगह पर रहने के लिए कहा जाए जहां रहने के लिए आपको वहां की सरकार पैसे देगी तो शायद आप खुशी-खुशी ऐसी जगह पर रहना पसंद करेंगे। आपको लग रहा होगा हम मजाक कर रहे हैं लेकिन ये मजाक नहीं है वास्तव में दुनिया में ऐसे शहर हैं जहां रहने के लिए सरकार यहां के निवासियों को पैसे देती है। आइए आपको बताते हैं इन शहरों के बारे में.....
इंटरनेट डेस्क। घर हो या मंदिर सभी को मिट्टी, ईंट या पत्थर से बनाया जाता है, लेकिन आपको ये जानकर आश्चर्य  होगा कि एक मंदिर ऐसा भी है जिसे मिट्टी या पत्थरों से नहीं बल्कि बीयर की खाली बोतलों से बनाया गया है। कोई ये सोच भी नहीं सकता है कि बीयर की खाली बोतलों का इस्तेमाल कर इतना सुंदर मंदिर बनाया जा सकता है।
नैनीताल। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर देशभर में मचे बवाल के बीच नैनीताल में एक ऐसी जगह है जो जिन्ना के जीवन के एक अलग पहलू की कहानी सुनाती है। आज खंडहर में तब्दील हो चुका एक होटल करीब सौ बरस पहले उनकी प्रेम कहानी का गवाह बना था। कभी शानदार रहे मैटोपोल होटल तथा जिन्ना की प्रेम कहानी में एक विडंबनात्मक समानता है।
इटावा। चंबल के बीहड़ों में मजबूरी के चलते डाकू बनी महिलाओं के लिए मातृत्व सुख पाना कम चुनौतीपूर्ण नहीं था, फिर भी कई ऐसी महिलाओं ने तमाम कठिनाइयों का सामना करते हुए यह सुख हासिल किया। बीहड़ों में आवागमन के साधनों के अभाव में पैदल ही दौड़ धूप करने से लेकर पुलिस दवाब के चलते बार बार स्थान बदलना इन गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत कष्टदायक समय रहा।
कांगड़ा। किसी ने कहा है कि सपना वह नहीं होता जो हम सोते समय देखते हैं, सपना वह होता है जो हमें सोने नहीं देता। ऐसा ही एक सपना भगवान सिंह ने 69 वर्ष की उम्र में पूरा किया जब उन्होंने उर्दू में पंजाब स्कूल एज्युकेशन बोर्ड की दसवीं की परीक्षा पास की। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा के रजियाना गांव के भगवान सिंह ने बताया, यूं तो दसवीं की परीक्षा मैंने 1968 में दी थी और 1973 में मैंने स्नातक डिग्री भी हासिल कर ली पर उर्दू पढ़-लिख सकने का मेरा सपना अधूरा रह गया था, जो अब जाकर पूरा हुआ...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.