नोटबंदी अपने लक्ष्यों को हासिल करने में सफल : सरकार

Samachar Jagat | Wednesday, 29 Aug 2018 07:24:25 PM
Banknotes succeed in achieving their goals: government

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक के 500 रुपए और 1000 रुपए मूल्य के पुराने नोटों को प्रचलन से हटाने के मद्देनजर 99.3 प्रतिशत पुराने नोटों के वापस आने के आकंड़े जारी करने के बीच सरकार ने बुधवार को कहा कि नोटबंदी जिन उद्देश्यों को लेकर की गयी थी वह काफी हद तक उसे हासिल करने में सफल रही है।

आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव एससी गर्ग ने यहां मीडिया से कहा कि नोटबंदी के प्रमुख उद्देश्यों में कालेधन को नियंत्रित करना, आतंक वित्त पोषण पर काबू पाना, डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देना और नकली नोटों को प्रचलन से बाहर करना शामिल था और लगभग ये सभी उद्देश्य पूरे हुए हैं।

बफ़ेट की बर्कशायर ने पेटीएम में हिस्सेदारी खरीदी, बोर्ड में भी स्थान मिला

उन्होंने कहा कि नोटबंदी वाले 10 हजार करोड़ रुपए मूल्य के नोट अब भी बाहर हैं। गौरतलब हैं कि केन्द्रीय बैंक ने बुधवार को जारी अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा है कि नोटबंदी वाले 500 रुपए और एक हजार रुपए के 15,310.73 लाख करोड़ रुपए मूल्य के पुराने नोट वापस आए।

नोटबंदी से पहले 8 नवंबर 2016 को 15,417.93 लाख करोड़ रुपए मूल्य के 500 और एक हजार रुपए के पुराने बैंक नोट प्रचलन में थे। उन्होंने कहा कि देश में नोटबंदी वाले नोटों को रखने का अपराध घोषित कर कानून बनाया गया है लेकिन विदेशों में लोगों के पास पुराने नोटों के लिए ऐसा कोई कानून नहीं है।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद डिजिटल लेनदेन में तेजी आई और अब यूपीआई पर हर महीने 25 करोड़ लेनदेन हो रहे हैं। रुपया में जारी गिरावट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों के लगातार निकासी करने के कारण भारतीय मुद्रा पर दबाव बना है।

लेकिन हाल के दिनों में करीब एक अरब डॉलर का सकारात्मक प्रवाह बढ़ा है जिससे रुपए को बल मिलने की संभावना है। उन्होंने डॉलर की तुलना में रुपया के 68 से 70 रुपए प्रति डॉलर के बीच रहने की उम्मीद जताते हुुए कहा कि भारतीय मुद्रा में गिरावट अस्थाई है।

मंत्रिमंडल ने बीमा नियामक क्षेत्र में भारत और अमेरिका के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

तेल विशेष कर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में आई तेजी के बारे में उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर हो रहे घटनाक्रम की वजह से इसमें बढोतरी हुई है लेकिन अंतरराष्ट्रीय बाजार में जैसे ही तेल 70 से 71 डॉलर प्रति बैरल पर आएगा भारतीय बाजार में भी पेट्रोल और डीजल की कीमतें कम हो जाएगी। उन्होंने कहा कि कुछ देशों में उत्पादन घटने का असर भी इसकी कीमतों पर हुआ है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.