फेसबुक ने उपभोक्ताओं के डेटा का यूज प्रतिस्पर्धात्मक हथियार के रूप में किया

Samachar Jagat | Thursday, 06 Dec 2018 10:57:34 AM
Facebook used data of consumers as a competitive weapon

लंदन। ब्रिटेन की एक संसदीय समिति की ओर से जारी आंतरिक दस्तावेजों से इस बात के स्पष्ट प्रमाण मिले हैं कि फ़ेसबुक ने अपने उपयोगकर्ताओं के डेटा का यूज प्रतिस्पर्धात्मक हथियार के रूप में किया है। साथ ही फ़ेसबुक ने इस संबंध में अपने उपयोगकर्ताओं को हमेशा अंधेरे में रखा।

संसद की मीडिया समिति ने बुधवार को फ़ेसबुक पर आरोप लगाया कि वह विशेष सौदे के तहत कुछ ऐप डेवलॉपर्स को अपने उपयोगकर्ताओं की जानकारी तक आसनी से पहुंच दे रहा है। वहीं जिन ऐप डेवलॉपर्स को वह अपना प्रतिद्बंद्बी मानता है उनकी राह में रोड़ अटका रहा है।

समिति ने 200 से ज्यादा पन्नों का दस्तावेज जारी किया है जिसमें उपयोगकर्ताओं की निजी जानकारी की कीमत को लेकर फ़ेसबुक की आंतरिक बहस को शामिल किया गया है। इन दस्तावेजों में वर्ष 2012 से 2015 के बीच के समय का जिक्र किया गया है।

उसी वक्त फ़ेसबुक सार्वजनिक मंच बना था। यह दस्तावेज कंपनी के कामकाज और उसने धन कमाने के लिए किस हद तक लोगों के डेटा का उपयोग किया है यह दिखाते हैं। जबकि कंपनी सार्वजनिक रूप से लोगों की निजता की सुरक्षा करने का वादा करती है।

फ़ेसबुक ने दस्तावेजों को गुमराह करने वाला बताते हुए इसे कहानी का हिस्सा करार दिया। कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है, दूसरे कारोबारों की तरह हम भी अपने प्लेटफॉर्म के लिये सतत कारोबारी मॉडल को लेकर आंतरिक बातचीत करते हैं।

यह स्पष्ट है कि हमने कभी लोगों का डेटा नहीं बेचा। फ़ेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने एक पोस्ट में इन दस्तावेजों का संदर्भ मांगा है। उन्होंने लिखा, बेशक हम हर किसी को अपने प्लेटफॉर्म के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दे सकते। समिति के अनुसार फ़ेसबुक ने 2015 में अपनी नीति में बदलाव के बावजूद एयरबीएनबी और नेटफ्लिक्स जैसी कंपनियों को सफ़ेद सूची में रखते हुए अपने उपभोक्ताओं तक पहुंच बनाए रखनी की इजाजत दी।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.