भारत को कच्चे तेल खरीदने की मंजूरी उपभोक्ता देशों के हितों का ध्यान रखने का सबूत: प्रधान

Samachar Jagat | Sunday, 04 Nov 2018 09:43:58 AM
India clearance to buy crude oil is evidence of taking care of interests of consumer countries: Pradhan

नई दिल्ली। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि भारत को ईरान से तेल खरीदने की अमेरिका की मंजूरी इस बात को पुन: दर्शाता है कि उपभोक्ता देशों के हितों की अनदेखी नहीं की जा सकती है। अमेरिकी सरकार ने ईरान के साथ कारोबार पर दोबारा आर्थिक पाबंदी लागाने के बावजूद भारत समेत आठ देशों को वहां से कच्चा तेल की खरीद जारी रखने की छूट दी है।

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध 5 नवंबर से लागू होने जा रहे जिसके तहत अमेरिका चाहता है कि कोई भी देश ईरान से कोई तेल न खरीदे। ऐसा न करने वाले देशों और कंपनियों के खिलाफ वह पाबंदी लागा सकता है। प्रधान ने एक कार्यक्रम के इतर मीडिया से कहा कि माननीय प्रधानमंत्री ने एक सशक्त अभियान चलाया कि आप उपभोक्ता देशों के हितों की अनदेखी नहीं कर सकते हैं।

भू-राजनीतिक परिस्थितियों को समझते हुए भारत ने अपना मुकाम हासिल कर लिया है। अमेरिका ने भारत समेत कुछ देशों पर से प्रतिबंध हटा दिया है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिका ने आठ देशों को ईरान से तेल खरीदना जारी रखने की अस्थायी अनुमति देने का फैसला किया है।

प्रधान ने कहा कि मैं इसका श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वैश्विक स्तर पर उभरती स्वीकार्यता को दूंगा। उनके इस अभियान से न सिर्फ भारत बल्कि अन्य कच्चे तेल के अन्य खरीदार देशों को भी फायदा होगा। भारत, चीन के बाद ईरान के तेल दूसरा सबसे बड़ा खरीदार है।

सूत्रों ने कहा कि भारत ईरान से अपने कच्चे तेल खरीद को 2०17-18 में 2.26 करोड़ टन सालाना (452,000 बैरल प्रति दिन) से 1.5 करोड़ टन प्रति वर्ष (3,00,000 बैरल प्रति दिन) तक सीमित करने के लिए तैयार है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.