सोलर ट्रैकिंग सिस्टम के लिए जर्मनी और भारत की कंपनी के बीच संयुक्त उद्यम

Samachar Jagat | Saturday, 15 Sep 2018 04:21:02 PM
Joint venture between Germany and India company for solar tracking system

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। सौर ऊर्जा प्रणालियों के जरिए सूर्य से दिन के समय अधिक से अधिक ऊर्ज़ा प्राप्त करने में उपयोगी सोलर ट्रैकिंग सिस्टम के लिए जर्मनी की कंपनी डीईजीईआर एनर्जी और महाराष्ट्र की कंपनी कावित्सू रोबोट्रोनिक्स प्रा. लि. के बीच संयुक्त उद्यम समझौता हुआ है। सरकार ने अक्षय ऊर्ज़ा साधनों के तहत देश में 2022 तक 175 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्ज़ा उत्पादन का लक्ष्य रखा है। इसमें सौर ऊर्ज़ा से 250 गीगावाट, पवन ऊर्ज़ा से 100 गीगावाट उत्पादन का लक्ष्य है। 

गर्लफ्रेंड को खुश करने के लिए डेयरी मिल्क के साथ दे रिलायंस जियो का फ्री 1जीबी 4जी डाटा

कंपनी की यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार संयुक्त उद्यम के तहत जर्मनी की आधुनिक तकनीक से भारत में सौर ट्रैकिंग प्रणाली का उत्पादन किया जा सकेगा। नई संयुक्त उद्यम कंपनी का नाम कावित्सूडेगर प्रा. लिमिटेड होगा। यह संयुक्त उद्यम कंपनी भारत और दक्षिण पूर्वी एशियाई बाजारों में सोलर ट्रैकिंग सिस्टम की आपूर्ति करेगी। संयुक्त उद्यम महाराष्ट्र के सतारा में लगाया जाएगा। डीईजीईआर की स्थापना जर्मनी में 1999 में हुई थी।

दक्षिणपंथी संगठनों ने सलमान की 'लवरात्रि’ पर हिंदू उत्सव के नाम को विकृत करने का लगाया आरोप, सलमान ने दिया ये जवाब

कंपनी की स्पेन, यूनान और ऑस्ट्रेलिया में भी शाखायें हैं। दक्षिण अफ्रीका और भारत में भी यह अपना विस्तार कर रही है।कावित्सू डेगेर के सीईओ कौस्तुभ फाडतरे ने कहा कि हम संयुक्त उद्यम के जरिए भारत में 50 प्रतिशत बाजार हिस्सा हासिल करने की उम्मीद कर रहे हैं। सोलर ट्रैकिंग सिस्टम के जरिए सूर्य की गति के साथ सोलर पैनल की दिशा भी बदलती रहती है जिससे अधिक से अधिक सौर ऊर्ज़ा को प्राप्त किया जा सकता है । - एजेंसी 

इजरायल पर्यटन के लिए तीन साल में पांच शीर्ष बाजारों में शामिल हो सकता है भारत

देश में विलुप्त हुए चीता को मध्यप्रदेश की नौरादेही वन्यजीव अभयारण्य में बसाने की कवायद फिर शुरू

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.