गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों से 45,000 करोड़ रुपए के ऋण-खाते खरीदेगा एसबीआई

Samachar Jagat | Wednesday, 10 Oct 2018 12:59:43 PM
SBI will buy 45,000 crore loan accounts from non-banking financial companies

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र का भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) नकदी संकट से जूझ रही गैर-बैंकिग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) से उनके कुल 45,000 करोड़ रुपए के अच्छी गुणवत्ता वाले ऋण खाते खरीदेगा। इससे इन कंपनियों को नकदी की तंगी से उबरने में मदद मिलेगी। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने ट्विटर पर लिखा है कि एसबीआई के फैसले से गैर - बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) के नकदी संकट कम करने में मदद मिलेगी। आईएलएंडएफएस और उसकी अनुषंगियों द्वारा कई कर्ज के भुगतान में चूक के बाद गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के समक्ष नकदी संकट खड़ा हो गया है। 

एसबीआई ने इससे पहले 15,000 करोड़ रुपए की संपत्तियां (ऋण खाते) खरीदने का फैसला किया था। अब उसने और 30,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त संपत्तियों की खरीद का फैसला किया है। एसबीआई के प्रबंध निदेशक पी के गुप्ता ने कहा, यह बैंक के लिए अपने ऋण पोर्टफोलियो को बढ़ाने का अच्छा वाणिज्यिक अवसर है। एनबीएफसी की संपत्तियां आकर्षक मूल्य पर उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि इससे एसबीआई और एनबीएफसी क्षेत्र दोनों को फायदा होगा। उन्हें जहां उनकी जरूरत को पूरा करने के लिए नकदी उपलब्ध होगी वहीं बैंक ऋण का पोर्टफोलियो बेहतर हो सकेगा।

एसबीआई ने बयान में कहा, बैंक ने शुरुआत में पोर्टफोलियो खरीद के जरिए चालू साल में 15,000 करोड़ रुपए की वृद्धि का लक्ष्य रखा था, जिसे अब बढ़ा दिया गया है। बैंक के आंतरिक आकलन के अनुसार उसके पास 20,000 से 30,000 करोड़ रुपए के अतिरिक्त पोर्टफोलियो की खरीद का अवसर होगा। इससे पहले 23 सितंबर को एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि एनबीएफसी की नकदी की स्थिति को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है। इसके अलावा बैंक ने इन अटकलों को खारिज किया है कि वह एनबीएफसी को ऋण घटाएगा। गैर - बैंकिंग वित्तीय कंपनियों का नियमन करने वाले राष्ट्रीय आवास बैंक (एनएचबी) ने भी कहा है कि वह एनबीएफसी की पुनःवित्तपोषण सीमा को बढ़ाकर 30,000 करोड़ रुपए करेगा। - एजेंसी   



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.