एआईएसईसीटी और माइक्रोफोकस हर साल 500 विद्यार्थियों को देंगे प्रशिक्षण

Samachar Jagat | Friday, 07 Jun 2019 10:53:07 AM
AISECT and micro focus will be given to 500 students every year

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

पटना। शैक्षणिक क्षेत्र में काम करने वाली महत्वपूर्ण कंपनी एआईएसईसीट ने प्रत्येक वर्ष 500 विद्यार्थियों का कौशल विकास करने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कंपनी माइक्रोफोकस एचपीई के साथ भागीदारी की है। एआईएसईसीटी के कार्यकारी उपाध्यक्ष सिद्धार्थ चतुर्वेदी ने कहा, इस भागीदारी से सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र की लगातार बदल रही जरूरतों के मुताबिक न केवल हर साल 500 विद्यार्थियों को प्रशिक्षण देंगे बल्कि उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने में भी मदद करेंगे। 

व्यावसायिक प्रशिक्षण के लिए अ.जा. / ज.जा. के अभ्यर्थियों को नहीं देना होगा शुल्क

हम लोग विद्यार्थियों को संयुक्त रूप से प्रमाण-पत्र देंगे। इस कार्य में माइक्रोफोकस को संबंधित विषय में महारथ हासिल है वहीं एआईएसईसीट की भूमिका क्रियान्वयन की होगी। चतुर्वेदी ने बताया कि इस भागीदारी के तहत विद्यार्थियों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन, साइबर सुरक्षा, बिग डाटा और क्वालिटी इंजीनियरिंग जैसे विशेष कोर्स कराए जाएंगे। विद्यार्थियों को पांच शहरों मध्य प्रदेश के भोपाल एवं खंडवा, झारखंड के हजारीबाग और बिहार के वैशाली स्थित एआईएसईसीटी के विश्वविद्यालयों में तीन चरण में प्रशिक्षण दिए जाएंगे। 

डीयू दाखिला 2019 : 2.29 लाख से अधिक छात्रों ने स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए पंजीकरण कराया

इसके बाद इस भागीदारी के तहत दिए जाने वाले कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम का विस्तार बेंगलुरु, हैदराबाद, इंदौर, कानपुर, जयपुर एवं उत्तर-पूर्वी राज्यों में भी किया जाएगा। कार्यकारी उपाध्यक्ष ने बताया कि एआईएसईसीटी के पांच विश्वविद्यालयों में नियमित पाठ्यक्रम के साथ विद्यार्थी एक साल और दो साल के बीटेक एकीकृत कार्यक्रम जैसे विशेष पाठ्यक्रम का भी चयन कर सकते हैं। वहीं, पाठ्यक्रम के अंतिम वर्ष से पूर्व विद्यार्थियों को कारोबारी पत्रिका फॉर्च्यून में सूचीबद्ध 500 कंपनियों में वर्चुअल इंटर्नशिप की व्यवस्था करने के साथ ही उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने में मदद की जाएगी। -एजेंसी

मेरा जोर अधिक-से-अधिक रोजगार सृजित करने पर होगा: सावंत



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.