कृत्रिम समझ का लाभ रोजगार की चिंता के मुकाबले अधिक

Samachar Jagat | Thursday, 15 Feb 2018 04:58:38 PM
The advantage of artificial understanding is more than the worry of employment

नई दिल्ली। कृत्रिम समझ वाली प्रणालियों के बाजार में आने से रोजगार के अवसरों पर बड़ा प्रभाव पड़ने की चिताएं हैं लेकिन इसका लाभ इन चिताओं के मुकाबले कहीं ज्यादा है। पीडब्ल्यूसी की रिपोर्ट में यह कहा गया है कि ऐसी प्रणालियों से एक तरफ जहां कार्य कुशलता बढ़ेगी वहीं लागत की बचत होगी। 

10वीं पास उम्‍मीदवारों के लिए पोस्टल सर्कल में नौकरी पाने का सुनहरा मौका

कृत्रिम समझ- शोरगुल या वास्तविकता (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-हाइप या रीयल्टी) शीर्षक से जारी रिपोर्ट के अनुसार सर्वे में शामिल 68 प्रतिशत प्रतिभागियों का मानना है कि कृत्रिम समझ से उत्पादकता बढ़ेगी, वृद्धि होगी और सामाजिक मुद्दों के समाधान जैसे विभिन्न उपायों से उनके व्यापार को मदद मिलेगी।’’ ये प्रतिभागी अपने कारोबार के लिये नीति निर्माण से जुड़े हैं।

सहकारी दुग्ध उत्पादक फेडरेशन लिमिटेड में वैकेंसी, अभी करें आवेदन

वहीं 65 प्रतिशत प्रतिभागियों ने इस बात से सहमति जतायी, ''कृत्रिम समझ का देश के रोजगार पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। हालांकि ज्यादातर लोगों का मानना है कि इससे जो लाभ होंगे, वह रोजगार को लेकर चिता से कहीं अधिक है। कृत्रिम समझ (एआई) लोगों के लिये अपने काम में को बेहतर करने का अवसर उपलब्ध कराएगा। साथ ही इससे काम में लचीलापन और कार्य-जीवन के बीच बेहतर संतुलन की स्थिति बनेगी।’’

10वीं पास उम्‍मीदवारों के लिए सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका

रिपोर्ट में यह उल्लेख किया गया है कि कृत्रिम समझ के लिये काफी समय और निवेश की जरूरत है। इसमें सुझाव दिया गया है कि संगठनों के लिये बेहतर होगा कि वे उन क्षेत्रों को प्राथमिकता दें जहां आसानी से स्वचालन हो सकता है। साथ ही कंपनियों को उन क्षेत्रों पर ध्यान देना चाहिए जो दक्षता में सुधार, लागत बचत और ग्राहकों तक पहुंच के संदर्भ में अधिक स्पष्ट और तत्काल रिटर्न दे सके।- एजेंसी

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.