राजकीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को निजी हाथों में देने से सार्थक परिणाम : सर्राफ

Samachar Jagat | Thursday, 07 Dec 2017 07:17:26 AM
Effective results by giving government primary health centers in private hands: Sarraf

जयपुर। राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सर्राफ ने कहा कि प्रदेश के राजकीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को निजी हाथों में देने से सार्थक परिणाम मिल रहे हैं। 

सर्राफ ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कर्नाटक और उत्तराखंड में जन सहभागिता योजना के असफल होने के प्रश्न पर कहा कि उन्हें दूसरे राज्यों के बारे में नहीं पता, लेकिन राजस्थान में जन सहभागिता योजना के सार्थक परिणाम सामने आये है। 

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की पिछले चार वर्षाे की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए सर्राफ ने कहा कि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 16 लाख मरीजों को लाभान्वित किया जा चुका है। इस योजना के तहत 974 करोड़ से अधिक की राशि के 17 लाख 73 हजार दावे पेश किये गये।

सर्राफ ने कहा कि वर्ष 2016 के नमूना पंजीकरण सर्वे के अनुसार प्रदेश में शिशु मृत्युदर प्रति हजार 41 दर्ज की गई है। वर्ष 2013 के सर्वे में यह दर 47 प्रति हजार थी। मातृत्व मृत्युदर वर्ष 2012 में 255 प्रति लाख थी, जो वर्तमान में घटकर 200 प्रति लाख रह गई है। 

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि शिशुओं की मौतों को नहीं रोका जा सकता है। यह सही है कि संसाधनों की कमी के चलते नवजात बच्चों की मौत हुई है और दोषी लोगों के खिलाफ सख्त कार्वाई की जा रही है। सरकार वर्ष 2022 तक नवजात बच्चों की मौत का आंकड़ा 28 तक प्रतिवर्ष लाने के लिये प्रतिबद्व है। 

हाल ही में राज्य सरकार ने बांसवाडा के राजकीय चिकित्सालय में दो माह में हुई 90 नवजात शिशुओं की मौत से जुड़े एक मामले में राजस्थान उच्च न्यायालय की जोधपुर पीठ को बताया कि प्रदेश में पिछले एक वर्ष में 32 हजार दो नवजात शिशुओं की मौत हुई है। 

उन्होंने बताया कि प्रदेश के दस जिलों में मदर मिल्क बैंक नवजात शिशुओं को दूध उपलब्ध कराने कार्य कर रहें है, वही सात नये मदर मिल्क बैंक प्रस्तावित है। मदर मिल्क बैंक में 10 हजार 715 माताओं ने 21 लाख 99 हजार 549 मिलीलीटर दूध दान करके नवजात गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती 7 हजार 513 नवजातों की जान बचाई है। 

उन्होंने बताया कि प्रदेश में कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिये अब तक 26 अन्तरराज्यीय डिकाय आपरेशन सहित 95 डिकाय आपरेशन कर लिंग परीक्षण एवं भ्रूण हत्या में लिप्त दोषी गिरफ्तार किये है। इन प्रयासों से लिंगानुपात बढकर 939 प्रति हजार हो गया है। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.