अगर पटाखों से तुलना करें तो लगता है कि वाहनों से कहीं अधिक प्रदूषण होता है: न्यायालय

Samachar Jagat | Tuesday, 12 Mar 2019 04:50:36 PM
If compared to firecrackers, it seems that there is more pollution than vehicles: the court

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को सवाल किया कि लोग पटाखा उद्योग के पीछे क्यों पड़े हैं जबकि ऐसा लगता है कि इसके लिए वाहन प्रदूषण कहीं अधिक बड़ा स्रोत हैं। शीर्ष अदालत ने केन्द्र से जानना चाहा कि क्या उसने पटाखों और आटोमोबाइल से होने वाले प्रदूषण के बीच कोई आनुपातिक अध्ययन कराया है।

पीठ ने टिप्पणी की कि पटाखा उद्योग में कार्यरत लोगों का रोजगार चला गया जबकि न्यायालय बेरोजगारी बढ़ाना नहीं चाहता है। न्यायमूर्ति एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की पीठ ने केन्द्र सरकार की ओर से पेश अतिरिक्त सालिसीटर जनरल एएनएस नाडकर्णी से जानना चाहा, क्या पटाखों से होने वाले प्रदूषण और आटोमोबाइल से होने वाले प्रदूषण के बारे में कोई तुलनात्मक अध्ययन किया गया है?

भीम आर्मी प्रमुख को देवबंद पुलिस ने किया गिरफ्तार, समर्थकों ने रोकी पुलिस की गाडियां

ऐसा लगता है कि आप पटाखों के पीछे भाग रहे हैं जबकि प्रदूषण में इससे कहीं अधिक योगदान करने वाले शायद वाहन हैं। पीठ ने देश भर में पटाखों के इस्तेमाल पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने के लिये दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। याचिका में दलील दी गई है कि इनकी वजह से प्रदूषण में वृद्धि होती है।

कांग्रेस कार्य समिति की बैठक, बीजेपी-आरएसएस की फासीवादी विचारधारा को हराने का संकल्प लिया

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को गुजरात में हुआ बड़ा फायदा, हार्दिक पटेल ने थामा दामन

खुशी से सौतन के साथ रहने को तैयार हो गई थी ये अभिनेत्री, इस वजह से करना चाहती थी आत्महत्या

अगर आपने तस्वीरों में नहीं देखे इन अभिनेत्रियों के फिगर, तो फिर कुछ नहीं देखा..?



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.