केजरीवाल के दावे आधारहीन, करें आयुष्मान योजना लागू : हर्ष वर्धन

Samachar Jagat | Saturday, 08 Jun 2019 04:04:30 PM
Kejriwal claims should be baseless, apply to Ayushman plan: Harsh Vardhan

नई दिल्ली। स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आयुष्मान भारत योजना लागू नहीं करने संबंधी बयान पर क्षोभ व्यक्त करते हुए कहा है कि स्वास्थ्य योजनाओं को लेकर मुख्यमंत्री के दावे आधारहीन हैं इसलिए उन्हें पीएमजेएवाई लागू करना चाहिए।

डॉ हर्ष वर्धन ने शनिवार को इस संबंध में केजरीवाल को पत्र लिखकर कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएमजेएवाई) के बारे में जो बयान दिया है उससे यही लगता है कि मुख्यमंत्री को दिल्ली की जनता की फिक्र नहीं है।

केजरीवाल दिल्ली सरकार की स्वास्थ्य संबंधी जिन योजनाओं को बेहतर बताकर निशुक्ल उपलब्ध कराने का दावा कर आयुष्मान भारत योजना को नकार रहे हैं वे सभी योजनाएं काम नहीं कर रही हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने एक साल पहले यूनिवर्सल कवरेज हेल्थ स्कीम की घोषणा की थी लेकिन यह योजना अभी तक सिर्फ कागजों में है।

इसी तरह से दिल्ली सरकार की मोहल्ल क्लीनिक योजना पूरी तरह से फ्लॉप है। दिल्ली सरकार के अस्पतालों में मरीजों का क्या हाल यह सभी देख रहे हैं इसलिए दिल्ली की जनता के हित में पीएमजेएवाई को लागू किया जाना चाहिए। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि दिल्ली की जनता को स्वास्थ्य योजनाओं पर पैसा खर्च करना पड़ रहा है इसलिए दिल्ली सरकार की इन योजनाओं को निशुल्क नहीं कहा जा सकता।

उन्होंने मुख्यमंत्री से पीएमजेएवाई का हिस्सा बनने का पुन: आग्रह किया और कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कल्पना की महत्वाकांक्षी और निशुल्क सरकारी स्वास्थ्य योजना को अपना कर दिल्ली की जनता के हित में इसे लागू करना चाहिए।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि पीएमजेएवाई के तहत पांच लाख रुपए की स्वास्थ्य बीमा की सुविधा भी है। दिल्ली सरकार अपनी स्वास्थ्य योजनाओं को इससे लिक करके दिल्ली की जनता को बेहतर और निशुल्क चिकित्सा सुविधा दे सकती है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.