जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए मध्यप्रदेश से शुरू हुआ पायलॅट प्रोजेक्ट

Samachar Jagat | Tuesday, 12 Jun 2018 05:11:17 PM
Pilot project to begin from Madhya Pradesh

सिटी डेस्क। वर्ल्ड रिसोर्सेस इन्स्टीट्यूट और भारत सरकार के समन्वय से जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिये आज मध्यप्रदेश से पायलॅट प्रोजेक्ट की शुरूआत हुई हैं। डब्ल्यू. आर. आई. द्बारा भारत में पायलॅट प्रोजेक्ट के रूप में मध्यप्रदेश और उत्तराखण्ड का चयन किया गया है। प्रमुख सचिव पर्यावरण अनुपम राजन ने इस अवसर पर एप्को द्बारा प्रदेश की जलवायु संबंधित जानकारियां प्राप्त करने के लिये तैयार किये गये क्लाइमेट इंफॉरर्मेशन डैशबोर्ड का शुभारंभ किया। इस मौके पर वर्ल्ड रिसोर्सेस इन्स्टीट्यूट भारत के निदेशक डॉ. नम्बी अप्पादुरई और लॉरेटा बुरके भी उपस्थित थे।

PM मोदी का उपवास खुलवाने वाले भय्यू महाराज ने की आत्महत्या

प्रमुख सचिव पर्यावरण अनुपम राजन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन से पूरे विश्व में रोजमर्रा का जीवन प्रभावित होने लगा हैं। अगर हमारे पास संबंधित डाटा उपलब्ध रहेंगे, तो नीति निर्धारकों को जलवायु के दुष्प्रभावों को रोकने और चुनौतियों से निपटने के लिए कार्य-योजना तथा रणनीति बनाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश शासन बेहतर पर्यावरण देने के लिये कृत संकल्पित है। राज्य में पॉलीथीन पर प्रतिबंध लगाया गया है। पिछले दो सालों में 50 हजार मीट्रिक टन से अधिक प्लास्टिक वेस्ट सीमेंट उद्योगों में जलाया गया हैं। पर्यावरण जागरूकता प्रसार के लिये मास्टर ट्रेनर्स और 12 हजार स्कूली बच्चों को तैयार किया गया हैं।

असम : दो युवकों की हत्या करने के मामले में पुलिस को हाथ लगी बड़ी कामयाबी

डब्ल्यू. आर. आई. इण्डिया की लॉरेटा बुरके ने पॉवर प्रजन्टेशन से प्रेप डाटा और प्रेप इण्डिया की जानकारी दी। एप्को के समन्वयक लोकेन्द्र ठक्कर ने एप्को/एसकेएमसीसी और डब्ल्यू. आर. आई. इण्डिया पार्टनरशिप की जानकारी दी। इन्स्टीट्यूट की पूजा पाण्डेय ने 'मध्यप्रदेश का डाटाबेस', नम्रता गिनोया ने 'मध्यप्रदेश में गेहूं’ लॉरा सत्कोवस्की ने 'भविष्य में पृथ्वी के तहत' मध्यप्रदेश के वन’ पर प्रस्तुतीकरण दिया। कार्यशाला में यूएनडीपी, हैदराबाद, दिल्ली के वैज्ञानिक और प्रदेश के विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.