शाहरुख को अपने घर में खाना खिलाता था यह निर्देशक, किंग खान के संघर्ष से लेकर कामयाबी की एक रोमांचक दास्तान

Samachar Jagat | Monday, 02 Sep 2019 12:44:44 PM
aziz mirza helps shahrukh khan during his struggle days as actor

इंटरनेट डेस्क। बॉलीवुड के किंग खान यानि शाहरुख खान आज जिस मुकाम पर हैं वहां पहुंचने के लिए युवा पीढ़ी के लिए एक सपने जैसा है। शाहरुख खान दुनिया के उन चुनिंदा फिल्म स्टार्स में से एक हैं जो बतौर दुनिया के सबसे अमीर ओर महंगे कलाकार माने जाते हैं।


loading...

लेकिन, क्या आपको पता है कि शाहरुख खान का एक दौर ऐसा था (जब वह फिल्म स्टार बनने के लिए स्ट्रगल कर रहे थे) कि उनके पास मुंबई में रहने के लिए घर और खाने के लिए पैसे तक नहीं होते थे। उनके इस बुरे दौर में बॉलीवुड के कई लोग ऐेसे थे जिन्होंने शाहरुख खान की काफी मदद की थी। शाहरुख खान का परिवार बिल्कुल गैर फिल्मी परिवार से था। शाहरुख खान की इस बात की भी तारीफ करनी पड़ेगी कि बिना किसी बैकग्राउंड के उन्होंने बिल्कुल लीक से हटकर बॉलीवुड में अपना करियर बनाया है।  

शाहरूख खान का लालन पोषण और पढ़ाई दिल्ली में हुई। शायद बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि वह बहुत अच्छे पारिवारिक बैकग्राउंड से आते हैं उनका परिवार बहुत ही प्रतिष्ठित  माना जाता था। शाहरूख की मां दिल्ली हाईकोर्ट में फस्र्ट क्लास मजिस्ट्रट थीं। उनके पिता स्वतंत्रता सेनानी और साथ ही वकील थे। शाहरूख खान को एक्टर बनने के सपने को पूरा करने में उनकी मां ने बहुत मदद की। जब उन्होंने एक्टर बनने की इच्छा जाहिर की तो उनकी मां ने उन्हें कभी भी इसके लिए नहीं रोका ओर उनकी हमेशा मदद करतीं थी।

उन्होंने इस काम के लिए उन्हें पूरी आजादी दी और दिल्ली के ड्रामा स्कूल में उनको एडमिशन दिलवाया और थिएटर और रंगमंच पर काम करने की परमिशन दी। लंबे संघर्ष के बाद शाहरूख खान को दूरदर्शन के टीवी सीरियल में काम करने का मौका मिला। शाहरूख खान ने फौजी, छोटा केबल जैसे टीवी सीरियल में काम किया है। इसके बाद उन्हें हेमा मालिनी की फिल्म दिल आशना है फिल्म में काम करने का मौका मिला। हालांकि, बड़े पर्दे पर उनकी पहले दीवाना रिलीज हुई। दोनों ही फिल्मों में उनकी आपोजिट दिव्या भारती थीं। इसके बाद शाहरूख खान बॉलीवुड में एंट्री ले चुके थे।

लेकिन, शाहरूख खान की बाजीगर ने तहलका मचा दिया और उनकी एक्टिंग के सभी कायल हो गए। इसके बाद उनके निगेटिव शेड की डर, अंजाम ने तो एक्टिंग के नये आयाम स्थापित किये। लेकिन, जब उनकी दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे रिलीज हुई तो इस फिल्म ने सभी रिकॉर्ड तोड़ डाले ओर उन्हें बॉलीवुड के रूमानी एक्टर के तौर पर स्थापित कर दिया। उन्हें तब से किंग ऑफ रोमांस भी कहा जाने लगा।

शाहरूख खान ने टीवी पर एक इंटरव्यू में बताया था कि जब फिल्में पाने के लिए वह बॉलीवुड में संघर्ष कर रहे थे तो फिल्म निर्माता निर्देशक अजीज मिर्जा और सलमान खान के पिता सलीम खान के घर पर ही खाना खाते और सोते थे। धीरे धीरे शाहरूख खान ऊंचाईयों की सीढिय़ां चढऩे लगे और शाहरूख खान आज कहां हैं बताने की जरूरत नहीं हैं। शाहरुख खान बताते थे कि शाम को मेरा ठिकाना अजीज मिर्जा का घर होता था ओर मुझ जैसे कई संघर्ष कर रहे एक्टर्स को मिर्जा की पत्नि एक माँ की तरह खुद अपने हाथ से खाना बनाकर खिलातीथीं। अजीज मिर्जा के घर के पर संघर्ष कर रहे एक्टर्स का जमावड़ा रहता था ओर वह सबको गले लगाते थे। शाहरुख खान की चलते चलते, फिर भी दिल है हिंदुस्तान, यस बॉस, राजू बन गया जेंटलमेन इन सभी फिल्मों का निर्देशन अजीज मिर्जा ने ही किया हे।

शाहरूख खान की मां उन्हें बहुत ही प्यार करती थीं। उनका सपना था कि उनका बेटा बड़ा एक्टर बने। लेकिन, जब उनककी पहली फिल्म रिलीज हुई थी तो उससे पहले उनकी मां इस दुनिया से जा चुकीं थीं। शाहरूख खान को आज भी इस बात का दुख है कि वह अपनी पहली फिल्म और यह कामयाबी अपनी मां को नहीं दिखा सके।

1999 में, अजीज मिर्जा ने जूही चावला और शाहरुख खान के साथ ड्रीम्ज अनलिमिटेड नामक एक प्रोडक्शन कंपनी की स्थापना की थी। उनकी पहली फिल्म फिर भी दिल है हिंदुस्तानी (2000) मिर्जा द्वारा निर्देशित की गई थी। 2003 में मिर्जा ने चलते चलते फिल्म का निर्देशन किया, इस फिल्म में शाहरुख खान ओर रानी मुखर्जी थे। फिल्म इस प्रोडक्शन हाउस की पहली बॉक्स ऑफिस हिट थी। इसके बाद अजीज मिर्जा ने अपनी पत्नी की मृत्यु के कारण फिल्म निर्देशन से दूरी बना ली। 2007 में, मिर्जा ने निर्देशन में वापसी की और अपनी अगली फिल्म किस्मत कनेक्शन रिलीज़ की, जो 2008 में एक ब्लॉकबस्टर बनी और इसमें शाहिद कपूर और विद्या बालन जैसे सितारों ने मुख्य भूमिकाएँ निभाईं थी।

जबकि जूही चावला ओर शाहरुख खान की बिजनेस पार्टनरशिप आज भी जारी है। जूही ओर शाहरुख आईपीएल की फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइट राइडर्स में पार्टनर हैं। शाहरुख आज भी अजीज मिर्जा का बहुत अहसान मानते हैं और उनको बहुत सम्मान देते हैं। आज शाहरुख खान खुद अपार सम्पत्ति के मालिक हैं, ओर अरबों के बंगले में रहते हैं। लेकिन, अपने पड़ौस में ही रहने वाले अजीज मिर्जा को शाहरुख खान एक पिता की तरह सम्मान देते हैं और समय समय पर उनकी देखभाल करते रहते हैं।  

आपकी जानकारी के लिए यह बातें दें 1999 में स्थापित हुई ड्रीम्ज अनलिमिटेड अब (2003) रेड चिलीज एंटरटेनमेंट के नाम से जानी जाती है। इस कंपनी को शाहरुख खान और उनकी पत्नी गौरी खान ने रेड चिलीज के नाम से ट्रांसफॉर्म कर दिया है। कंपनी फिल्म निर्माण, डिस्ट्रीब्यूशन, फिल्म एडवरडाइजिंग जैसे काम देखती है, साथ ही कोलकाता नाइट राइडर्स का मालिकाना हक भी रेड चिलीज के पास है। हालांकि, इसमें अभी जूही चावला की भी हिस्सेदारी है।

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.