यदि आप भी सिनेमाघर में बैठकर करते है यह काम तो हो जाए सावधान, नहीं तो...

Samachar Jagat | Thursday, 07 Feb 2019 04:36:21 PM
If you also sit in the cinema and do this work then be careful, otherwise ...

एंटरटेनमेंट डेस्क। मोदी सरकार ने फिल्मों की पायरेसी रोकने के लिए सिनेमेटोग्राफी एक्ट 1952 में बदलाव को लेकर मंजूरी दे दी है। अब इस बदलाव के बाद अगर कोई भी ​व्यक्ति सिनेमाहॉल में फिल्मों को रिकॉर्ड करते पकड़ा गया। तो उस व्यक्ति पर 10 लाख रुपए तक का जुर्माना हो सकता है। इसके साथ ही उस व्यक्ति को तीन साल तक की जेल भी हो सकती है। इस बात की जानकारी केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधबार को कैबिनेट के फैसले के बाद दी थी। 


आपको बता दें कि फिल्मों की पायरेसी को रोकने के लिए सरकार ने सिनेमैटोग्राफी एक्ट 1952 को मंजूरी दी है। क्योंकि पिछले कई सालों से कई पाइरेटेड वेबसाइट फिल्मों को गैरकानूनी तरीके से इंटरनेट पर अपलोड करती है। जिसकके बाद फिल्म के कलेक्शन पर काफी प्रभाव पड़ता है। 

 

गौरतलब है कि अब इस एक्ट के 6 एए में एक नई धारा को जोडा गया है। जिसके बाद किसी भी फिल्म को बिना प्रोड्यूसर या कंपनी की अनुमति के बिना रिकॉर्ड करना जुर्म होगा। यदि वह ऐसा करता है तो उस पर तीन साल की जेल या 10 लाख रुपए तक का जुर्माना या फिर दोनों सजा मिल सकती है। 


दरअसल, इस सरकार के इस फैसले के बाद प्रोड्यूसर्स गिल्ड ने इसका स्वागत किया है। प्रोड्यूसर गिल्ड ने अपने बयान में कहा है कि एसोसिएशन खुले दिल से भारत सरकार के इस कदम का स्वागत करती है। सरकार का यह कदतम पीएम मोदी के उस वादे को पूरा करता है। जो कि उन्होंने 19 जनवरी 2019 को सिनेमा म्यूजियम के उद्धाटन के दौरान किया था। 

आपको बता दें कि पिछले कुछ सालो से पायरेसी बहुत हुई थी। तो वहीं पिछले दिनों लगभग सभी मूवी रिलीज होने के दिन ही आॅनलाइन लीक कर दी गई थी। इसके बाद मोदी सरकार ने बॉलीवुड को यह शानदार तोहफा दिया है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.