जन्मदिन विशेष: फिल्म इंडस्ट्री के पहले एंटी हीरो थे अशोक कुमार

Samachar Jagat | Saturday, 13 Oct 2018 02:08:08 PM
Unknown Facts About Ashok Kumar

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता अशोक कुमार की छवि भले ही एक सदाबहार अभिनेता की रही है लेकिन बहुत कम लोगों को पता होगा कि वह फिल्म इंडस्ट्री के पहले ऐसे अभिनेता हुये जिन्होंने एंटी हीरो की भूमिका भी निभाई थी। पिछली शताब्दी के चालीस के दशक में अभिनेताओं की छवि परंपरागत अभिनेता की होती थी जो रूमानी और साफ सुथरी भूमिका किया करते थे।

अशोक कुमार फिल्म इंडस्ट्री के पहले ऐसे अभिनेता हुये जिन्होंने अभिनेताओं की परंपरागत शैली को तोड़ते हुये फिल्म किस्मत में एंटी हीरो की भूमिका निभाई थी। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में सर्वाधिक कामयाब फिल्मों में बांबे टॉकीज की वर्ष 1943 में निर्मित फिल्म ..किस्मत ..में अशोक कुमार ने एंट्री हीरो की भूमिका निभायी थी। इस फिल्म ने कलकत्ता के चित्रा थियेटर सिनेमा हॉल में लगातार 196 सप्ताह तक चलने का रिकार्ड बनाया।

हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री मे दादा मुनि के नाम से मशहूर कुमुद कुमार गांगुली उर्फ अशोक कुमार का जन्म बिहार के भागलपुर शहर में 13 अक्तूबर 1911 को एक मध्यम वर्गीय बंगाली परिवार में हुआ था। अशोक कुमार ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा खंडवा शहर से पूरी की । इसके बाद उन्होंने अपनी स्नातक की पढ़ाई इलाहाबाद यूनिर्वसिटी से पूरी की जहां उनकी दोस्ती शशाधर मुखर्जी से हो गयी जो उन्हीं के साथ पढ़ा करते थे। इसके बाद अपनी दोस्ती को रिश्ते मे बदलते हुये अशोक कुमार ने अपनी इकलौती बहन की शादी शशाधर से कर दी । वर्ष 1934 मेंं न्यू थियेटर मे बतौर लैबोरेट्री असिटेंट काम कर रहे अशोक कुमार को बांबे टॉकीज मे काम कर रहे उनके बहनोई शशाधार मुखर्जी ने अपने पास बुला लिया। 

वर्ष 1936 में बांबे टॉकीज की फिल्म जीवन नैया के निर्माण के दौरान फिल्म के मुख्य अभिनेता बीमार पड़ गये। इस विकट परिस्थति मे बांबे टाकीज के मालिक हिंमाशु राय का ध्यान अशोक कुमार पर गया और उन्होंने अशोक कुमार से फिल्म मे बतौर अभिनेता काम करने की गुजारिश की। इसके साथ हीं जीवन नैया से अशोक कुमार का बतौर अभिनेता फिल्मी सपर शुरू हो गया। वर्ष 1939 में प्रदर्शित फिल्म कंगन बंधन और झूला में अशोक कुमार ने लीला चिटनिस के साथ काम किया। इन फिल्मों में उनके अभिनय को दर्शको द्वारा काफी सराहा गया इसके साथ हीं फिल्मों की कामयाबी के बाद अशोक कुमार बतौर अभिनेता फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गये।

वर्ष 1943 हिमांशु राय की मौत के बाद अशोक कुमार बाम्बे टाकीज को छोड़ फिल्मीस्तान स्टूडियो चले गये। वर्ष 1947 में देविका रानी के बाम्बे टॉकीज छोड़ देने के बाद बतौर प्रोडक्शन चीफ बाम्बे टाकीज के बैनर तले उन्होंने मशाल, जिद्वी,और मजबूर जैसी कई फिल्मों का निर्माण किया। पचास के दशक में बाम्बे टॉकीज से अलग होने के बाद उन्होंने अपनी खुद की प्रोडक्शन कंपनी शुरू की इसके साथ हीं उन्होंने जूपिटर थियेटर भी खरीदा। अशोक कुमार प्रोडक्शन के बैनर तले उन्होंने सबसे पहले समाज का निर्माण किया लेकिन यह फिल्म बॉक्स आफिस पर बुरी तरह नकार दी गयी। इसके बाद उन्होंने अपने बैनर तले फिल्म परिणीता का भी निर्माण किया। लगभग तीन वर्ष के बाद फिल्म निर्माण क्षेत्र में घाटा होने के कारण उन्होने अशोक कुमार प्रोडक्शन कंपनी बंद कर दी।

वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म परिणीता के निर्माण के दौरान फिल्म के फिल्म के निर्देशक बिमल राय के साथ उनकी अनबन बन हो गयी। इसके बाद अशोक कुमार ने बिमल राय के साथ काम करना बंद कर दिया। लेकिन अभिनेत्री नूतन के कहने पर अशोक कुमार ने एक बार फिर से बिमलराय के साथ वर्ष 1963मे प्रदर्शित फिल्म बंदिनी में काम किया और यह फिल्म हिन्दी फिल्म इतिहास की क्लासिक फिल्मों मे शुमार की जाती है। अभिनय में एकरूपता से बचने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप में भी स्थापित करने के लिये अशोक कुमार ने अपने को विभिन्न भूमिकाओं में पेश किया।

वर्ष 1958 में प्रदर्शित फिल्म ..चलती का नाम गाड़ी ..में उनके अभिनय के नये आयाम दर्शको को देखने को मिले। हास्य से भरपूर इस फिल्म में अशोक कुमार के अभिनय को देख दर्शक मंत्रमुग्ध हो गये। वर्ष 1968 में प्रदर्शित फिल्म ..आशीर्वाद..मे अपने बेमिसाल अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किये गये। इस फिल्म मे उनका गाया गाना ..रेल गाड़ी रेल गाड़ी ..बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ। इसके बाद वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म .ज्वैलथीफ.. में उनके अभिनय का नया रूप दर्शकों को देखने को मिला। इस फिल्म मे वह अपने सिने कैरियर मे पहली खलनायक की भूमिका में दिखाई दिये। इस फिल्म के जरिये भी उन्होंने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया।

वर्ष 1984 में दूरदर्शन के इतिहास के पहले शोप आपेरा.हम लोग.में वह सीरियल के सूत्रधार की भूमिका में दिखाई दिये और छोटे पर्दे पर भी उन्होंने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। दूरदर्शन के लिये ही अशोक कुमार ने भीम भवानी, बहादुर शाह जफर और उजाले की ओर जैसे सीरियल में भी अपने अभिनय का जौहर दिखाया। अशोक कुमार को मिले सम्मान की चर्चा की जाये तो वह दो बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये है। वर्ष 1988 में हिन्दी सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के अवार्ड से भी अशोक कुमार सम्मानित किये गये। लगभग छह दशक तक अपने बेमिसाल अभिनय से दर्शकों के दिल पर राज करने वाले अशोक कुमार 10 दिसंबर 2001 को सदा के लिये अलविदा कह गये। - एजेंसी

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.