विशुद्ध शाकाहारी खुराक पर्यावरण के लिए बेहतर : अध्ययन

Samachar Jagat | Monday, 12 Feb 2018 12:06:53 PM
The pure vegetarian diet is better for the environment study
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the lend of Sun, Send and adventures

लंदन। एक अध्ययन में सामने आया है कि विशुद्ध शाकाहार का सेवन पशु उत्पादों की तुलना में पृथ्वी के लिए बेहतर हो सकता है।'फ्रंटियर्स इन न्यूट्रीशन’ नाम के जर्नल में प्रकाशित हुआ यह अध्ययन पहली बार दोनों आहार पद्धतियों और खेती उत्पादन प्रणालियों के पर्यावरणीय प्रभावों की पड़ताल करता है। 

खुद पर हंसना मानसिक स्वास्थ्य के लिए हो सकता है अच्छा : अध्ययन

शोधकर्ताओं ने बताया कि यह पहली बार जैविक खाद्य सेवन के पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव की भी पड़ताल करता है। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन समेत कई संगठन वैश्विक स्तर पर अधिक टिकाऊ आहार को अपनाने की वकालत करते हैं। ऐसे आहारों में पशु उत्पादों कम उपभोग शामिल है। इसका पौधे आधारित उत्पादों की तुलना में पर्यावरण पर अधिक प्रभाव पड़ता है।

शरीर में आयरन की पूर्ति करेंगे ये खाद्य पदार्थ

यह मुख्य रूप से पशुधन की उच्च ऊर्ज़ा आवश्यकताओं के साथ-साथ ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में पशुधन के बहुत बड़े योगदान के कारण है।अत्यधिक पशुधन भी जैव विविधता के लिए हानिकारक है क्योंकि इससे प्राकृतिक पर्यावास को घास और फसलें उगाने में प्रयोग में लाया जाता है।

मधुमेह को ठीक करने में मददगार होगी करेले की नई किस्म

शोधकर्ताओं ने कहा कि खाद्य उत्पादन की विधि टिकाऊ आहार को प्रभावित कर सकती है।जैविक खेती को उत्पादन की अन्य तकनीकों की तुलना में आम तौर पर अधिक पर्यावरण अनुकूल समझा जाता है।

यूनानी चिकित्सा पद्धति उपयोगी

'फ्रेंच एजेंसी डे इन्वायर्मेंट एट डी ला मैट्राइज़ डी एनर्जी एंड न्यूट्रीशनल एपीडेमोलॉजी रिसर्च यूनिट’ की लुइज सेकोडा ने कहा कि हम इस बात की अधिक विस्तृत तस्वीर प्रदान करना चाहते थे कि कैसे विभिन्न आहार पर्यावरण को प्रभावित करते हैं। शोधकर्ताओं ने फ्रांस के 34,000 से ज्यादा वयस्कों से आहार सेवन और जैविक खाद्य सेवन के बारे में जानकारी हासिल की।-एजेंसी 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the lend of Sun, Send and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.