‘ज्ञानी अपनी चेतना और अज्ञानी तन को संभालता है’

Samachar Jagat | Friday, 13 Apr 2018 03:01:11 PM
'The wise man handles his consciousness and ignorance'
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मदनगंज-किशनगढ़। मुनि पुंगव श्री सुधा सागर जी महाराज ने कहा कि हमें ये चार दिन की जिंदगी मिली है, इन चार दिनों में हम चाहें तो चारों पुरुषार्थों को करके पंचमगति को प्राप्त कर सकते हैं, चतुर्गति के भ्रमण से बच सकते हैं और चाहें तो केवल अर्थ व काम पुरुषार्थों में ही जीवन को गंवा कर दुर्गति को प्राप्त कर सकते हैं। 

मुनिश्री ने उक्त विचार गुरुवार को महाअतिशयकारी ज्ञानोदय तीर्थ क्षेत्र नारेली में धर्मसभा में व्यक्त किए। मुनिश्री ने कहा कि सत्पुरुषार्थ करने वालों के लिए चार दिनों की जिंदगी ही काफी है और ना करने वालों के लिए 40 हजार वर्षों का समय ही बेकार है। देवतागण विषयों में आसवत्त है, नारकी दु:खों से विहल है और तिर्थंच ज्ञान से ही है, सिर्फ मानव ही ऐसी कृति है इस धरती पर जो धर्माचरण की योग्यता को जागृत करके आत्मकल्याण कर सकता है। यदि वह स्वयं चाहे तो मानव पर्याय में ही चेतना का विकास संभव है। पाठशाला और शास्त्र आदि के माध्यम से मनुष्य ही शिक्षा प्राप्त करता है, पशु नहीं। 

अन्य पर्याय में तो केवल पाप व दु:ख की ही निष्पति होती है। जिस प्रकार दूध में ही घी की संभावना व्यक्त की जाती है, छाछ में नहीं, उसी प्रकार मनुष्य भव में ही आत्मोत्थान किया जा सकता है अन्य भव में नहीं। आपके हाथ में चेतन और तन के ये दो कलश है, ये तो आपकी बुद्धि पर निर्भर करता है कि पैर फिसलने पर आप किसकी रक्षा करते हैं। ज्ञानी अपनी चेतना को संभालता है और अज्ञानी तन की। अब आप ज्ञानी है या अज्ञानी ये समीक्षा आप स्वयं करे। जिसके पास निर्मल चित्त है उसके लिए हर जगह आनंद ही आनंद है और मलिन चित्त वाले को कही पर भी शांति नहीं मिलती।

 प्रचार-प्रसार संयोजक विनीत कुमार जैन ने बताया शुक्रवार प्रात: 8:15 बजे से मुनि सुव्रतनाथ भगवान का अभिषेक एवं शांतिधारा होगी। इसके बाद प्रात: 9:30 बजे मुनिश्री के प्रवचन, 10:30 बजे मुनिश्री की आहारचर्या, 12 बजे सामायिक व सांय 5:30 बजे महाआरती एवं जिज्ञासा समाधान का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.