आर्थिक तंगी से परेशान हैं या प्रमोशन की चाह है तो निर्जला एकादशी पर करें ये उपाय

Samachar Jagat | Thursday, 13 Jun 2019 08:59:29 AM
If you are worried about financial hardships or want promotion, then these measures will be done on Nirjala Ekadashi

धर्म डेस्क। ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी का व्रत किया जाता है। इस दिन बिना अन्न-जल ग्रहण किए व्रत किया जाता है। शास्त्रों में इस एकादशी का व्रत करना सभी तीर्थों में स्नान करने के समान माना गया है। निर्जला एकादशी का व्रत करने से मनुष्य सभी पापों से मुक्ति पाता है। जो व्यक्ति पूरे साल एकादशी का व्रत नहीं कर पाता है अगर वो निर्जला एकादशी का व्रत कर लेता है तो उसे 24 एकादशियों के फल की प्राप्ति होती है। वहीं इस दिन कुछ खास उपायों को करने की भी आवश्यकता होती है, आइए जानते हैं निर्जला एकादशी पर धन-समृद्धि के लिए क्या-क्या उपाय करने चाहिए ...........................

जानिए! क्यों गरूण देव की तस्वीर को घर में लगाना माना जाता है शुभ, क्या होते हैं इसके फायदे

अगर पैसों की कमी चल रही है तो निर्जला एकादशी के दिन भगवान विष्णु का केसर के दूध से अभिषेक करें और भगवान विष्णु की पूजा करते समय कुछ पैसे मंदिर में रख दें और पूजा के बाद इन पैसों को उठाकर अपने पर्स में रख दें। इन्हें खर्च न करें, पूजा के इन पैसों को पर्स या तिजोरी में रखने से धन वृद्धि होती है और तिजोरी हमेशा पैसों से भरी रहेगी।

अगर आप कर्ज से परेशान हैं तो निर्जला एकादशी पर यानि आज पीपल के वृक्ष पर पानी चढ़ाएं और शाम के समय दीपक जलाएं। पीपल में भगवान विष्णु का वास होता है और इस उपाय को करने से आपको जल्दी ही कर्ज मुक्ति मिलेगी।

इन योद्धाओं की वजह से महाभारत का युद्ध हो गया अजर-अमर, किसी भी युग में कोई नहीं कर सकता इनकी बराबरी

अगर प्रमोशन की चाह है तो निर्जला एकादशी पर सात कन्याओं को घर बुलाकर भोजन कराएं, भोजन में खीर अवश्य होनी चाहिए। कुछ ही दिनों में आपकी कामना पूरी होगी।

सुख और शांति के लिए निर्जला एकादशी के दिन एक नारियल व थोड़े बादाम भगवान विष्णु के मंदिर में चढ़ाएं। वहीं शाम को तुलसी के पौधे के सामने गाय के घी का दीपक लगाएं और ऊँ वासुदेवाय नमः मंत्र बोलते हुए तुलसी की 11 परिक्रमा करें। इस उपाय से घर में सुख-शांति बनी रहती है।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

नकारात्मकता का प्रतीक होती हैं ये तस्वीरें, घर में रखने से व्यक्ति को करना पड़ता है अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना

भगवान विष्णु ने शिवजी को क्यों किया अपना एक नेत्र अर्पित, कैसे पड़ा इनका नाम कमल नयन, जानिए इस रोचक कथा के बारे में...



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.