मथुरा में तीन सितंबर को मनायी जाएगी जन्माष्टमी

Samachar Jagat | Friday, 24 Aug 2018 01:40:27 PM
Janmashtami will be celebrated on September 3 in Mathura

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म महोत्सव शास्त्रीय मर्यादाओं एवं परंपराओं के अनुसार तीन सितंबर को मनाया जाएगा। श्रीकृष्ण जन्मभूमि न्यास के सचिव कपिल शर्मा ने गुरूवार को यहां बताया कि भगवान श्रीकृष्ण की पवित्र प्राकट्य भूमि पर पूर्णावतार, रसावतार, प्रेमावतार भगवान श्रीकृष्ण का जन्म महोत्सव शास्त्रीय मर्यादाओं एवं परंपराओं के अनुसार तीन सितंबर को मनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मथुरापुरी की महिमा का गायन श्रीमद्भागवत, महाभारत, गर्ग संहिता तथा अष्टादस पुराण में किया गया है। 

उन्होंने बताया कि ब्रजभूमि का सबसे बड़ा पर्व होने के कारण यहां के विभिन्न मंदिरों में जन्माष्टमी की तैयारियां अभी से शुरू हो गई हैं। श्रीकृष्ण जन्मस्थान में तीर्थयात्रियों का अपार जनसमूह एकत्र होने के कारण यहां पर व्यवस्थाएं बहुत पहले से ही शुरू हो गई हैं। जन्मस्थान में जन्म के दर्शन करने के लिए अपार जनसमूह जुड़ता है और प्रत्येक दर्शनार्थी को प्रसाद दिया जाता है। यहां प्रसाद का बनना अभी से शुरू हो गया है।

शर्मा ने बताया कि श्रीकृष्ण-जन्मभूमि के संपूर्ण परिसर को अद्भुत कलात्मकरूप से सजाया जा रहा है। जन्मभूमि के संपूर्ण प्रांगण, भवनों एवं देवालयों को ब्रज के भावुक भक्त सज्जाकारों के साथ-साथ देश के विभिन्न भागों से आए कारीगर अद्भुत  स्वरूप प्रदान करने के लिए दिन-रात साज-सज्जा एवं विद्युत सजावट के कार्यों में लगे हुए हैं। संस्थान का प्रयास है कि जन्मभूमि के अंदर से अथवा परिसर के बाहर से श्रद्धालुगण जिस दिशा से भी श्रीकृष्ण जन्मभूमि के दर्शन करेंगे, वहीं से उनको जन्मभूमि की नयनाभिराम छटा के दर्शन प्राप्त हों।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि न्यास के सचिव ने बताया कि जन्मभूमि परिसर में स्थित श्रीकेशवदेव मंदिर में विविध प्रकार के पुष्प-पत्र एवं वस्त्रों से निर्मित भव्य बंगले में ठाकुरजी विराजमान होंगे। भगवान की प्राकट्य भूमि एवं कारागार के रूप में प्रसिद्ध गर्भगृह की सज्जा चित्ताकर्षक होगी। मंदिर के प्राचीन वास्तु के अनुरूप गर्भगृह के भीतरी भाग को सजाया जाएगा। पुष्प, रत्न प्रतिकृति के अद्भुत संयोजन से गर्भगृह के मूल स्वरूप में बिना कोई परिवर्तन किए दिव्य स्वरूप प्रदान किया जाएगा। साथ ही पर्व के अनुकूल प्रकाश का संयोजन भी गर्भगृह की भव्यता एवं दिव्यता में वृद्धि करेगा।

उन्होंने बताया कि जन्म अभिषेक के दर्शन भागवत भवन में होंगे इसलिए इसकी सजावट विशेष रूप से की जा रही है। संपूर्ण भागवत भवन की सज्जा में विभिन्न पत्र-पुष्प, वस्त्र आदि के अद्भुत संयोजन से सुवर्ण आभा स्वरूप प्रदान किया जाएगा। प्राचीन शैली में निर्मित इस भव्य सुवर्ण आभा में विराजमान ठाकुरजी अत्यन्त ही मनोहारी स्वरूप में भक्तों को दर्शन देंगे। जन्माभिषेक स्थल की दीवारों को प्राचीन भवनाकृति के स्वरूप में सजाया जाएगा ।

इस पवित्र अवसर पर ठाकुरजी रेशम, जरी एवं रत्न प्रतिकृति के सुन्दर संयोजन से बनी कमलाकृति पोशाक धारण करेंगे। श्रीकृष्ण-जन्माष्टमी तीन सितंबर सोमवार को प्रात: मंगला-दर्शन से पूर्व भगवान इसी पोशाक को धारण कर दर्शन देंगे। पोशाक में रत्न एवं रेशम का उपयोग करते हुए कमल-पुष्प, पत्ती, लता-पता आदि की जड़ाई की गयी है। शर्मा ने बताया कि जन्माष्टमी की पूर्व संध्या दो सितंबर रविवार को सांय 6:00 बजे श्रीकेशवदेव मंदिर से संत एवं भक्तजन ढोल-नगाड़े, झांझ-मंजीरे, के मध्य भगवान श्री राधाकृष्ण की दिव्य पोशाक अर्पित करने के लिए संकीर्तन करते हुये जायेंगे।

पोशाक, मुकुट, श्रृंगार, दिव्य मोर्छलासन, कामधेनु गाय की प्रतिकृति एवं दिव्य रजत कमल के विशेष दर्शन होंगे। इस वर्ष सुन्दर जरी, रेशम एवं रत्नप्रतिकृतियों के संयोजन से दिव्य ब्रजरत्न मुकुट, जन्माष्टमी के पवित्र दिन ठाकुरजी धारण करेंगे। दो सितंबर रविवार की सांय 6:30 बजे भागवत भवन में जन्म महोत्सव की कमलाकृति पोशाक, मोर्छलासन, स्वर्ण मण्डित रजत कामधेनु स्वरूपा गौ प्रतिमा एवं ब्रजरत्न मुकुट के एवं दिव्य रजत कमल-पुष्प के विशेष दर्शन होंगे।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि न्यास के सचिव ने बताया कि तीन सितंबर को प्रात: दिव्य शहनाई एवं नगाड़ों के वादन के साथ भगवान की मंगला आरती के दर्शन होंगे। इसके बाद भगवान का पंचामृत अभिषेक वैदिक मंत्रों के मध्य किया जायेगा। प्रात: 10:00 बजे श्रीकृष्ण जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास एवं गुरूशरणानन्द महाराज के भावमय सानिध्य में दिव्य पुष्पांजलि का कार्यक्रम श्रीकृष्ण जन्मभूमि के सिद्ध लीलामंच पर संपन्न होगा।

शर्मा के अनुसार जन्म महाभिषेक का मुख्य एवं अलौकिक कार्यक्रम रात्रि 11:00 बजे श्रीगणेश-नवग्रह आदि पूजन से शुरू होगा। रात्रि 12:00 बजे भगवान के प्राकट्य के साथ संपूर्ण मंदिर परिसर ढोल-नगाड़े, झॉंझ-मंजीरे और मृदंग एवं हरिबोल , शंखध्वनि एवं करतल ध्वनि से गूंज उठेगा। भगवान के जन्म की महाआरती शुरू होगी जो रात्रि 12:10 बजे तक चलेगी। ढोल एवं मृदंग अभिषेक स्थल पर तो बजेंगे ही साथ-ही-साथ संपूर्ण मंदिर परिसर में स्थान-स्थान पर भी इनका वादन होगा। इसके बाद केसर आदि सुगन्धित द्रव्यों से लिपटे हुये भगवान श्रीकृष्ण के चल विग्रह मोर्छलासन में विराजमान होकर अभिषेक स्थल पर पधारेंगे।

पौराणिक एवं शास्त्रीय परंपराओं के अनुसार ऐसी मान्यता है कि भगवान के जन्म महाभिषेक महोत्सव के दर्शन करने के लिए देव, देवाधिदेव महादेव सहित 33 कोटि देवतागण उपस्थित रहते हैं। भगवान का प्रथम जन्माभिषेक स्वर्ण मण्डित रजत से निर्मित कामधेनु स्वरूपा गौमाता करेंगी। शास्त्रीय मान्यता है कि गौमाता में स्वयं 33 कोटि देवतागण वास करते हैं। रजत कमलपुष्प में विराजमान ठाकुरजी के श्रीविग्रह का अभिषेक स्वर्ण मण्डित रजत गौ विग्रह के पयोधरों से निकली दुग्धधारा से होगा। ठाकुरजी के अभिषेक से पूर्व गौमाता का पूजन कर देवताओं का आव्हान किया जाएगा।

ठाकुरजी के श्रीविग्रह का दूध, दही, घी, बूरा, शहद आदि सामग्री से दिव्य महाअभिषेक किया जाएगा। जन्माभिषेक के उपरान्त इस महाप्रसाद का वितरण जन्मभूमि के निकास द्बार के दोनों ओर वृहद मात्रा में किया जाएगा। भगवान का जन्म महाभिषेक रात्रि 12:15 बजे से रात्रि 12:30 बजे तक चलेगा। तदोपरान्त 12:40 से 12:50 तक श्रृंगार आरती के दर्शन होंगे। जन्म के दर्शन रात्रि 1:30 बजे तक खुले रहेंगे।  -एजेंसी 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.