धन की चाह है या शनि पीड़ा से परेशान हैं तो आज करें ये उपाय

Samachar Jagat | Saturday, 07 Jul 2018 07:00:01 AM
The desire of money or shani is troubled by pain So take these measures today

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। हिंदू धर्म में कुछ पेड़ों को पूजनीय माना गया है, इन्हीं में से एक है पीपल का पेड़। पीपल का पेड़ एक औषधिय पेड़ है, शास्त्रों में भी पीपल को हर तरह से लाभकारी माना गया है, इसीलिए इसे काटना वर्जित माना गया है। ज्योतिषशास्त्र में पीपल के पेड़ से जुड़े कुछ खास नियम बताए गए हैं साथ ही ये भी बताया गया है कि पीपल के पेड़ को क्यों नहीं काटना चाहिए। आइए आपको बताते हैं इनके बारे में ......

पीपल के पेड़ को पूजनीय माना जाता है और शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति पीपल के पेड़ को काटता है उसके घर की सुख - समृद्धि नष्ट हो जाती है और ऐसे घर में कभी भी लक्ष्मी नहीं ठहरती है।

अगर आप शनिदेव की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो पीपल के पेड़ की पूजा करें। पीपल की पूजा से शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है, अगर कोई पीपल के वृक्ष को नुकसान पहुंचाता है, तो उसे शनि का कोप झेलना पड़ता है। 

शास्त्रों के अनुसार पीपल के पेड़ को काटने के साथ ही अगर कोई पीपल को कटते हुए देखता भी है, तो उसे भी शनि दोष लगता है, पीपल की पूजा के बिना इस पाप से मुक्ति नहीं मिलती है।

शास्त्रों के अनुसार पीपल को भगवान विष्णु ने वरदान दिया कि जो व्यक्ति शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करेगा, उस पर लक्ष्मी की कृपा सदा बनी रहेगी और उसे कभी भी धन की कमी नहीं होगी। 

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

अगर आप भी चाहते हैं कि आपका नया प्लॉट वास्तुदोष से मुक्त हो तो इन चीजों का रखें ध्यान

अगर चाहते हैं कि माता लक्ष्मी आप पर रहें मेहरबान तो इस तरह से अपनी झाडू का रखें ध्यान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.